बनारस से लाकर छत्तीसगढ़ में कर रहा था ये अवैध कारोबार, पुलिस बोली- नहीं मिली थी इससे बड़ी सफलता

बनारस से लाकर छत्तीसगढ़ में कर रहा था ये अवैध कारोबार, पुलिस बोली- नहीं मिली थी इससे बड़ी सफलता

Ram Prawesh Wishwakarma | Publish: Oct, 05 2018 09:38:20 PM (IST) Koria, Chhattisgarh, India

मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने युवक के घर में मारा छापा, पैरा के नीचे छिपाकर रखा था इतना सारा सामान

बैकुंठपुर. कोरिया जिले की पटना पुलिस की टीम ने मुखबिर के सूचना पर ग्राम पंचायत तेंदुआ-बरपारा में छापा मारा। इस दौरान आरोपी ने अपने घर के एक कमरे में पैरा के नीचे 940 नग कफ सिरप और 11 हजार 544 नग कैप्सुल छिपाकर रखा था। इसकी कीमत 2 लाख 50 हजार रुपए आंकी गई है। जब्त सिरप व कैप्सुल उत्तरप्रदेश के बनारस से लाई गई थीं।


कोरिया उप पुलिस अधीक्षक सोनिया उके व पटना थाना प्रभारी आनंद सोनी ने प्रेसवार्ता में बताया कि मुखबिर के माध्यम से भारी मात्रा में प्रतिबंधित नशीली दवाइयां का स्टॉक रखने की सूचना मिली थी। इसके बाद तत्काल आला अधिकारियों को जानकारी दी गई और विशेष टीम गठित कर गुरुवार शाम 7-9 के बीच ग्राम पंचायत तेंदुआ के बरपारा में छापा मारा गया।

 

Drug smuggler

इस दौरान ग्राम तेंदुआ निवासी शिव प्रसाद यादव पिता रामरूप यादव (35) ने प्रतिबंधित 940 नग कफ सिरप और 11544 नग कैप्सुल घर के एक कमरे में पैरा में छिपाकर रखा था। मामले में आरोपी को गिरफ्तार कर एनडीपीएस एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध कर गिरफ्तार कर लिया गया।

आरोपी को न्यायालय में पेश किया जाएगा। कार्रवाई में एएसआई शिवकुमार यादव, मनोज सुनहरे, अजय पोया, सविता बेक, एनसीओ पवन पटेल आदि शामिल थे।


कोरिया में सबसे बड़ी कार्रवाई, बनारस से पहुंची थीं दवाइयां
डीएसपी ने बताया कि पटना पुलिस की विशेष टीम ने नशीली दवाइयों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। यह कोरिया में सबसे बड़ी कार्रवाई है। इसमें 2 लाख 50 हजार रुपए की नशीली दवाइयां जब्त की गई है। आरोपी ने नशीली दवाइयों को बनारस से खरीदकर लाया था और फुटकर विक्रेता के रूप में कई गुना अधिक कीमत पर बिक्री करता था।

इससे पहले कई बार नशीली दवाइयों के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है, जिसमें कई आरोपियों ने झारखण्ड के गढ़वा, मध्यप्रदेश के कटनी से दवाइयां खरीदकर लाई थी।


मामला ड्रग्स डिपार्टमेंट के हवाले कर दिया
पटना थाना प्रभारी सोनी ने कहा कि आरोपी के पास दवाइयां बिक्री करने का कोई लाइसेंस नहीं था। बावजूद भारी मात्रा में प्रतिबंधित दवाइयां लाकर रखी थी। मामले में ड्रग्स विभाग से चर्चा कर कंपनी को पत्र लिखने की बात कही गई है। क्योंकि कंपनी व डीलर ने बिल पर्ची व लाइसेंस के बिना इतनी तादाद में प्रतिबंधित दवाइयों की कैसे आपूर्ति कर दी है।


नशीली दवाइयों की इतनी मात्रा बरामद
आरसी कफ सीरप 940 नग।
स्पाजमो प्रोक्सीयोन प्लस 11544 नग।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned