कोरिया में दो दल में 74 हाथी, 15 किसानों की रौंद डाली फसलें, 5 घर तोड़े और मवेशी को भी मार डाला

Elephants in Koria: खडग़वा क्षेत्र में 45 हाथियों का दल (Elephants team) जबकि सोनहत क्षेत्र में विचरण कर रहा है 29 हाथियों का दल, ग्रामीण रतजगा करने को विवश

By: rampravesh vishwakarma

Updated: 19 Nov 2020, 10:06 PM IST

बैकुंठपुर. कोरिया में 2 हाथी दल (Elephants in Koria) में 74 हाथियों के विचरण करने से ग्रामीण भयभीत हैं। रोजाना हाथियों का यह दल किसानों की खेतों में लगी फसलों को जहां नुकसान पहुंचा रहा है, वहीं मकान भी तोड़ रहे हैं। हाथियों ने 15 किसानों के दर्जनों एकड़ में लगी आलू व धान की फसलों को रौंद (Elephants crushed crops) डाला।

वहीं 5 मकान तोडक़र एक मवेशी को भी मार (Killed cattle) डाला। खडग़वां क्षेत्र में 45 व सोनहत क्षेत्र में 29 हाथी विचरण कर रहे हैं। फिलहाल फॉरेस्ट की टीम निगरानी व फसल-मकान नुकसान का आंकलन करने में जुटी है।


खडग़वां वनपरिक्षेत्र देवाडांड़ बीट के सकड़ा में 45 हाथियों का दल (45 elephants) चार दिन से विचरण कर रहा है। बुधवार की रात हाथियों के दल ने 15 किसानों की फसल (Farmers crops) को रौंदा और 5 मकान को तोड़ दिया है। साथ ही हमले में एक पशु की मौत हो गई है।

इससे प्रभावित ग्राम मंगोरा, बिरनीडांड़, बेलकामार, भुसकीडांड़, कटकोना, कारीछापर, भुजबलडांड़, जरौंधा के ग्रामीण भयभीत हैं। हाथियों के आतंक के कारण ग्रामीण अपनी-अपनी फसलें बचाने को लेकर रतजगा करने को मजबूर हैं। धान की फसल कटने लगी है और अधिकांश फसल को काटकर खलिहान में रख चुके हैं।

कोरिया में दो दल में 74 हाथी, 15 किसानों की रौंद डाली फसलें, 5 घर तोड़े और मवेशी को भी मार डाला

वर्तमान में हाथियों का दल देवाडांड़ के सीमा से लगे कटघोरा वनमंडल के समलाई जंगल बभनी नदी के ऊपर विश्राम कर रहे हंै। रात होने के बाद हाथी प्रभावित गांव-गांव घूमकर फसल व मकानों को नुकसान पहुंचाते हैं। वहीं वन अमला आस पास के गांव को सूचना देकर हाथियों से दूरी बनाकर रहने, जंगल नहीं जाने की समझाइश दी है।


कटघोरा सीमा में जाने से मिली थी राहत लेकिन आधी रात को दोबारा लौटा दल
कलक्टर एसएन राठौर के नेतृत्व में एसपी-डीएफओ की टीम ने हाथी प्रभावित गांव जरौंधा पहुंचकर जायजा लिया था। इस दौरान मशाल जलाने सहित अन्य उपाए करने, ग्रामीणों से अकेले नहीं घूमने, जंगल नहीं जाने व समूह में रहने व काम करने की समझाइश दी गई थी।

वहीं शासकीय उच्चतर माध्यमिक स्कूल भवन व छात्रावास में ग्रामीणों को एक जगह सामूहिक रूप से ठहराने निरीक्षण किया गया था। प्रशासनिक टीम को फॉरेस्ट गार्ड्स ने बताया कि हाथियों का दल कटघोरा डिवीजन में चला गया है।

प्रशासनिक टीम ने 45 हाथियों के कटघोरा वनमण्डल की सीमा में प्रवेश करने की सूचना के बाद राहत की सांस ली थी, लेकिन बुधवार की आधी रात हाथी दल ने दोबारा लौटकर फसल-मकानों को नुकसान पहुंचाया।


तमोर पिंगला से 29 हाथियों का दूसरा दल सोनहत पहुंचा
गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान क्षेत्र में 29 हाथियों का दूसरा दल पहुंच गया है। यह दल सोनहत के सुखतरा, अमृतपुर, सेमरिया के जंगल में विचरण कर रहा है। यह दल तमोर पिंगला अभ्यारण्य से आया है।

मामले में वन अमला हाथियों के मुवमेंट (Elephants movement) पर नजर बनाए रखा है। फिलहाल इस दल ने फसल व मकान को नुकसान नहीं पहुंचाया है। बावजूद वन अमला आसपास गांव को सूचना देकर हाथियों से दूरी बनाए रखने समझाइश दी है।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned