scriptPaddy price: 2 government organisations to buy paddy in Chhattisgarh | छत्तीसगढ़ में धान खरीदने 2 सरकारी संस्थाएं, किसानों को ऐसे प्रति क्विंटल 540 रुपए का हो रहा नुकसान | Patrika News

छत्तीसगढ़ में धान खरीदने 2 सरकारी संस्थाएं, किसानों को ऐसे प्रति क्विंटल 540 रुपए का हो रहा नुकसान

Paddy Price: धान का कटोरा (Dhaan ka katora) कहे जाने वाले राज्य में धान की अलग-अलग कीमत का मामला, हर क्विंटल में 453 रुपए का अंतर, इन किसानों (Farmers|) को प्रत्येक क्विंटल में 540 रुपए का होता है नुकसान,

 

कोरीया

Published: April 26, 2022 05:21:07 pm

योगेश चंद्रा.
बैकुंठपुर/बरबसपुर. धान का कटोरा कहे जाने वाले छत्तीसगढ़ राज्य में धान खरीदने दो संस्थाएं अधिकृत हैं और दोनों संस्थाओं की कीमत में 453 रुपए प्रति क्विंटल अंतर है। वहीं टेस्टिंग में फेल होने वाले किसानों को एक क्विंटल के पीछे 540 रुपए नुकसान होता है। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ (मार्कफेड) और छत्तीसगढ़ राज्य बीज एवं कृषि विकास निगम लिमिटेड धान खरीदने अधिकृत हैं। मार्कफेड में समर्थन मूल्य (Support price) पतला धान 1960 रुपए और मोटा धान 1940 रुपए निर्धारित है। मार्कफेड में धान बेचने वाले किसानों को समर्थन मूल्य के अलावा न्याय योजना से प्रति क्विंटल 2500 रुपए दिया जाता है। वहीं बीज निगम में 2393 रुपए प्रति क्विंटल की दर से धान खरीदी हुई है।
Paddy price
Agriculture seed development corporation limited

वर्ष 2021-22 में पंजीकृत महज 83 किसान 12928 क्विंटल धान लेकर पहुंचे। इसमें सिर्फ 66 किसानों का 8405.4 क्विंटल पास हुआ है। जिन्हें 2393 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से भुगतान हुआ है। वहीं 17 किसानों का धान टेस्टिंग में फेल होने के बाद 4522.6 क्विंटल को 1940 रुपए के हिसाब से भुगतान कर दिया गया है। टेस्टिंग सहित अन्य प्रक्रिया में किसानों को 540 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से नुकसान हुआ है। इसलिए बीज निगम में गिनती के 105 किसान पंजीकृत हैं।

मार्कफेड में कीमत कम, न्याय योजना से बढ़ जाती है
मार्कफेड में समर्थन मूल्य पतला धान 1960 रुपए और मोटा धान 1940 रुपए और बीज निगम में धान की कीमत 2393 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित है। जिसमें 453 रुपए का अंतर है। हालाकि मार्कफेड में न्याय योजना जोडक़र 2500 रुपए प्रति क्विंटल भुगतान होता है।
इससे बीज निगम के मुकाबले मार्कफेड की कीमत बढ़ जाती है। इसलिए बीज निगम में धान बेचने गिनती के किसान पहुंचते हैं। वहीं मार्कफेड के माध्यम से वर्ष 2021-22 में 28304 पंजीकृत किसान से 140092.68 मीट्रिक धान खरीदी हुई है।

हर साल निर्धारित होती है धान की कीमत
हर साल धान की कीमत निर्धारित होती है। वर्ष 2021-22 में 2393 रुपए प्रति क्ंिवटल निर्धारित है। वहीं जिनका धान टेस्टिंग में फेल होता है, उस किसानों को प्रति क्विंटल 1960 रुपए के हिसाब से भुगतान होता है। बीज निगम में वर्ष 2020-21 में 2263 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित थी।
चंद्रप्रकाश मिश्रा, प्रभारी छत्तीसगढ़ बीज एवं कृषि विकास निगम लिमिटेड बैकुंठपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने पर दिया बड़ा बयान, कहीं यह बातMaharashtra Political Crisis: शिवसेना को लगने वाला है जोर का झटका! शिंदे खेमे के संपर्क में है संजय राउत के भाई सुनील?Bypoll Result 2022: उपचुनाव में मिली जीत पर सामने आई PM मोदी की प्रतिक्रिया, आजमगढ़ व रामपुर की जीत को बताया ऐतिहासिकRanji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबKarnataka: नाले में वाहन गिरने से 9 मजदूरों की दर्दनाक मौत, सीएम ने की 5 लाख मुआवजे की घोषणाअगरतला उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस नेताओं पर हमला, राहुल गांधी बोले- BJP के गुड़ों को न्याय के कठघरे में खड़ा करना चाहिए'होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा' की मानसिकता से निकलकर 'करना है, करना ही है और समय पर करना है' का संकल्प रखता है भारतः PM मोदीSangrur By Election Result 2022: मजह 3 महीने में ही ढह गया भगवंत मान का किला, किन वजहों से मिली हार?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.