धान धरीदी की तैयारी: 20 सहकारी समिति में पीडीएस से पहुंचा बारदाना, पंजीकृत किसानों को एसएमएस से मिलेगी सूचना

Paddy procurement: 1 दिसंबर 2020 से 31 जनवरी 2021 तक समर्थन मूल्य (Support price) पर की जाएगी धान की खरीदी, बारदाने की हो रही थी कमी

By: rampravesh vishwakarma

Published: 23 Nov 2020, 12:13 AM IST

बैकुंठपुर. कोरिया के 20 आदिम जाति सेवा सहकारी समिति के माध्यम से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की तैयारी होने लगी है। फिलहाल 20 समिति में पीडीएस (PDS) के पुराने 12 हजार 443 बारदाने पहुंच चुके हैं। वहीं जरूरत के हिसाब से नए बारदाने भेजने की प्रक्रिया जारी है।


कोरोना संक्रमण की रोकथाम व बचाव को लेकर उपार्जन केंद्रों के लिए गाइडलाइन जारी किया गया है। समिति में भीड़ रोकने टोकन सिस्टम अनिवार्य और खरीदी से पहले टोकन जारी कर पंजीकृत किसानों को एसएमएस से सूचना भेजी जाएगी। १ दिसंबर २०२० से ३१ जनवरी २०२१ तक धान खरीदी होनी है।

कोरिया में खरीफ विपणन वर्ष २०२०-२१ में २४८५७ किसान समर्थन मूल्य पर धान बिक्री करेंगे। जिसमें ५७९५ नए व १९५४१ पुराने किसान शामिल हैं। हालाकि ४७९ पुराने किसानों का पंजीयन निरस्त कर किया है। नए-पुराने पंजीकृत किसानों का कुल रकबा ३५४०८.४०० हेक्टेयर है।


27-28 नवंबर को ट्रायल होगा
कोरिया के 20 समिति में धान खरीदी से पहले कम्प्यूटरीकृत सिस्टम का 27-28 नवंबर को ट्रायल होगा। जिसमें हर समिति को हिस्सा लेना अनिवार्य होगा। ट्रायल में शामिल नहीं होने वाले की इंसेंटिव कमीशन की पात्रता खत्म कर दी जाएगी। मामले में ट्रायल तिथि से पहले हर तैयारी चकाचक करने निर्देश दिए गए हैं।

इसके अलावा इलेक्ट्रॉनिक कांटा-बाट का सत्यापन कराने, हर समिति में आर्द्रतामापी यंत्र चालू करने सहित यंत्र का 25 नवंबर तक कैलीब्रेशन कराने कहा गया है।


गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराएंगे
- खरीदी केंद्रों में भीड़ रोकने टोकन सिस्टम से धान खरीदी होगी।
- पंजीकृत किसानों को केंद्र की क्षमता व व्यवस्था के तहत टोकन जारी किया जाएगा और एसएमएस से जानकारी मिलेगी।
- टोकन सिस्टम का रोजाना मॉनीटरिंग होगी, बिना टोकन धान खरीदी नहीं की जाएगी।


- कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए हर व्यवस्था व जागरुकता संदेश प्रदर्शन होगा।
-उपार्जन केंद्रों में मास्क जरूरी, सोशल डिस्टेंसिंग व फिजिकल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन करना होगा।
- हर केंद्र में हाथ धोने के लिए साबुन व पर्याप्त पानी रखना होगा।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned