4 साल में 25 कॉलरीकर्मी बर्खास्त, विधायक व समर्थकों ने सीजीएम कार्यालय में जड़ा ताला, सोशल डिस्टेंसिंग नियम की उड़ाईं धज्जियां

Social distancing norms flouted: एसईसीएल चिरमिरी क्षेत्र का मामला, मनेंद्रगढ़ विधायक डॉ विनय जायसवाल की मौजूदगी में कार्यकर्ता सुरक्षा घेरा तोडक़र कार्यालय में घुसे

By: rampravesh vishwakarma

Published: 14 Jun 2020, 03:35 PM IST

चिरमिरी पोड़ी. एसइसीएल चिरमिरी में वर्षों से कार्यरत 25 कर्मचारियों के सर्विस रेकॉर्ड में मात्रात्मक त्रुटि बताकर बर्खास्त करने के खिलाफ मनेंद्रगढ़ विधायक डॉ. विनय जायसवाल की मौजूदगी में शनिवार को चिरमिरी सीजीएम कार्यालय में ताला जड़ दिया गया।

इस दौरान पुलिस सुरक्षा घेरा को तोडक़र विधायक व समर्थक सीधे सीजीएम कार्यालय में घुसे और अफसर को तत्काल निराकरण को लेकर लिखित जवाब देने का अल्टीमेटम दिया फिर कार्यालय के बाहर धरने पर बैठ गए। इस दौरान उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग नियम की खुलेआम धज्जियां उड़ाईं। (Social distancing norms flouted)


मनेंद्रगढ़ विधायक डॉ. जायसवाल के नेतृत्व में बर्खास्त कर्मी के परिजन व बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता शनिवार को चिरमिरी एसईसीएल मुख्यालय पहुंचे। कॉलरी प्रबंधन ने तालाबंदी की सूचना के बाद पहले से ही बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात करा दिया था।

इस दौरान आक्रोशित विधायक व कार्यकर्ता सुरक्षा घेरा को तोडक़र सीधे कार्यालय घुस गए और प्रबंधन के सामने बर्खास्त कर्मियों को नौकरी पर दोबारा रखने मांग रखी। प्रबंधन की ओर से कोई जवाब नहीं मिलने के कारण कार्यालय से बाहर आकर अनशन पर बैठ गए।

4 साल में 25 कॉलरीकर्मी बर्खास्त, विधायक व समर्थकों ने सीजीएम कार्यालय में जड़ा ताला, सोशल डिस्टेंसिंग नियम की उड़ाईं धज्जियां

विधायक के साथ बर्खास्त श्रमिकों के घरों की महिलाएं रोती बिलखतीं नजर आईं। विधायक ने कहा कि चिरमिरी के श्रमवीरों को मात्रात्मक त्रुटि, सत्यहीन जांच कर बर्खास्त करने का बड़ा खेल चल रहा है। इसमें कुछ दलाल, भाजपा के पुराने जनप्रतिनिधि व एसईसीएल के अधिकारी शामिल हैं।

वर्तमान में 530 कॉलरी कर्मचारियों की फर्जी जांच चल रही थी, लेकिन मेरे विधायक बनने के बाद अब तक कार्रवाई नहीं की गई है। वर्तमान में 32 श्रमिक परिवारों को अनाथ कर फर्जी जांच कर उन्हें निकाल दिया गया है। जो कुछ साल बाद रिटायरमेंट होने वाले थे। (Social distancing norms flouted)

मामले में एक समूह के रूप में भाजपा के पूर्व जनप्रतिनिधि, अधिकारी एवं दलाल सक्रिय हैं। सिर्फ एक व्यक्ति एसइसीएल के 600 कर्मचारियों की शिकायत करता है, उसके ऊपर भी एसइसीएल एफआईआर दर्ज कराए। बर्खास्त कर्मचारियों को वापस लिया जाए। कांग्रेस पार्टी गरीब, मजदूर, किसान, श्रमिकों के साथ खड़ी रहेगी।


सुनवाई नहीं होने पर सीएमडी कार्यालय का घेराव होगा
विधायक डॉ. जायसवाल ने कहा कि कोविड-19 के कारण हम लोग सोशल डिस्टेंसिंग के साथ हड़ताल कर रहे हैं, लेकिन इसका असर कम होने के बाद इन श्रमिकों को न्याय नहीं मिलेगा तो सीएमडी कार्यालय बिलासपुर का घेराव किया जाएगा और कार्यालय में ताला बंद कर दिया जाएगा।

विधायक ने पूरे मामले को गंभीरता से लेकर बर्खास्त 32 कोल कर्मचारियों की बहाली का मुद्दा उठाया है। श्रमिक परिवारों को मात्रात्मक त्रुटि होने के कारण प्रबंधन ने नौकरी से बर्खास्त किया है। उन्होंने कहा कि एसइसीएल चिरमिरी क्षेत्र में कई वर्षों से आरटीआई का सहारा लेकर दलाली प्रथा हावी है।

4 साल में 25 कॉलरीकर्मी बर्खास्त, विधायक व समर्थकों ने सीजीएम कार्यालय में जड़ा ताला, सोशल डिस्टेंसिंग नियम की उड़ाईं धज्जियां

इसमें कर्मचारियों से उनकी सेवानिवृत्ति के एक माह 15 दिन पहले 5-10 लाख तक अवैध उगाही की लगातार शिकायत मिलने लगी है। पैसा नहीं देने पर कई कर्मचारी इन दलालों के शिकार होकर अपनी नौकरी सेवानिवृत्ति से पहले फर्जी घोषित कर सेवा से मुक्त कर दिया जाता था। (Social distancing norms flouted)

इसकी शिकायत को लेकर भुक्तभोगी कर्मचारी, साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड बिलासपुर तक शिकायत दर्ज कराई गई। बावजूद कोई ठोस सुनवाई व कार्यवाही नहीं हुई।


सीजीएम कार्यालय में तीन घंटे तक हंगामा
विधायक व उनके समर्थक निर्धारित समय सुबह 11 बजे मुख्य महाप्रबंधक कार्यालय पहुंचे और हंगामे के बीच तालाबंदी कर दी। इस दौरान पुलिस व कार्यकर्ताओं के बीच जमकर खींचतान हुई। भारी मशक्कत के बाद एसइसीएल मुख्य द्वार पर ताला लगा दिया गया। (Social distancing norms flouted)

लगभग 3 घण्टे तक एसईसीएल मुर्दाबाद, मोदी सरकार और राज्य की पूर्व रमन सरकार के कार्यकाल के समय संलिप्त दलालों पर एफआईआर दर्ज कराने की मांग करते रहे। मामले में महाप्रबंधक घनश्याम सिंह, प्रभारी जीएम जेएस मदान, एरिया पर्सनल ऑफिसर एस बेहरा ने उच्च अधिकारियों से चर्चा कर आगामी 24 जून को अध्यक्ष सह प्रबंधक एसइसीएल बिलासपुर की उपस्थिति में बैठक के बाद उचित निर्णय की लिखित जानकारी दी।


24 जून को आएंगे वरिष्ठ अधिकारी
यह प्रकरण पूर्व से लंबित है। इस विषय में विधिक सलाह मांगी गई है। अभी विधायक द्वारा हड़ताल किया गया है। हमने मुख्यालय में चर्चा की है। 24 जून को मुख्यालय से वरिष्ठ अधिकारी आएंगे और इस विषय में चर्चा की जाएगी।
घनश्याम सिंह, मुख्य महाप्रबंधक एसइसीएल चिरमिरी

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned