स्कूल में 4 छात्राओं व 2 छात्रों का अचानक फूलने लगा पेट- देखें Video

कोरिया जिले के उजियापुर स्थित जामपारा के प्राथमिक स्कूल का मामला, ६ बच्चों को नागपुर अस्पताल में कराया गया भर्ती

By: rampravesh vishwakarma

Published: 09 Feb 2018, 09:10 PM IST

बरबसपुर. राष्ट्रीय कृमिमुक्ति दिवस पर प्राथमिक शाला उजियापुर-जामपारा में बच्चों को कृमिनाशक दवा खिलाई गई थी। दवा खाने के आधे घंटे बाद ही 4 छात्राओं व 2 छात्रों का पेट अचानक फूलने लगा। बच्चे दर्द से छटपटाने लगे तो आनन-फानन में उन्हें अस्पताल ले जाया गया। यहां सभी बच्चों का इलाज डॉक्टरों द्वारा शुरु किया गया। फिलहाल बच्चों की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर स्कूलों में बच्चों को दवा का सेवन कराया गया था।

 

गौरतलब है कि राष्ट्रीय कृमिमुक्ति दिवस पर कोरिया में 2.40 लाख बच्चों को कृमिनाशक दवा का सेवन कराया जाना था। प्राथमिक शाला उजियापुर-जामपारा में कृमिनाशक दवा खिलाने के करीब आधे घंटे बाद 6 बच्चे का पेट अचानक फूलने लगा था। मामले में नागपुर अस्पताल को जानकारी दी गई। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन तत्काल स्कूल में पहुंची और 108 संजीवनी एक्सप्रेस से बच्चों को अस्पताल में लाया गया।

यहां बच्चों को भर्ती कर उपचार शुरू कर दिया गया है। दवा खाने से बीमार होने वाले बच्चों में अनीत, अभिजीत, विद्या, अंजली, मुनिका और प्रभा शामिल हैं। अस्पताल के डॉक्टर राहुल मिश्रा व मेडिकल स्टाफ एसके दुबे का कहना बच्चों की तबीयत सामान्य है। अस्पताल में रखकर निगरानी रखने के बाद छुट्टी दे दी जाएगी।


बरबसपुर संकुल समन्वयक पहुंचे स्कूल
कृमिनाशक दवा खिलाने के बाद ६ बच्चों की तबीयत बिगडऩे की जानकारी मिलने पर बरबसपुर संकुल समन्वयक रूपनारायण भी प्राथमिक शाला जामपारा पहुंच गए। इस दौरान दवा खिलाने का समय, मात्रा, बच्चों के नाम सहित अन्य जानकारी ली। वहीं बच्चों के परिजन भी स्कूल पहुंचकर मामले की जानकारी ली।

सोनहत स्कूल के बच्चे भी पड़े थे बीमार
करीब 3 महीने पूर्व सोनहत स्थित एक स्कूल में दवा खाने के बाद दर्जनभर से अधिक बच्चे बीमार पड़ गए थे। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उक्त घटना के बाद यह दूसरा मामला है।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned