जज ने सजा सुनाई ही थी कि कोर्ट से भाग निकला आरोपी, ससुराल से पुलिस ने किया गिरफ्तार

जज ने सजा सुनाई ही थी कि कोर्ट से भाग निकला आरोपी, ससुराल से पुलिस ने किया गिरफ्तार

Ram Prawesh Wishwakarma | Publish: Apr, 17 2019 07:22:27 PM (IST) Koria, Koria, Chhattisgarh, India

चोरी के एक मामले में 15 अप्रैल को अदालत ने सुनाई थी सजा, जमानत पर चल रहा था आरोपी

जनकपुर. 10 किलोग्राम राशन चोरी करने के मामले में न्यायालय से सजा मिलते ही आरोपी कोर्ट परिसर से भाग निकला। पुलिस उसकी खोजबीन में जुटी थी। इसी बीच मुखबिर की सूचना के आधार पर उसे उसके चाचा ससुर के घर से गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने फिर उसे न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया।


कोरिया जिले के जनकपुर थाना क्षेत्र के ग्राम खेतौली निवासी दलप्रताप सिंह उर्फ दीपू उर्फ मनोज कुमार पिता शिवनारायण कुछ दिन पूर्व ग्राम चरवाही में रिश्तेदार के घर शादी समारोह में शामिल होने गया था। इस दौरान 10 किलो ग्रामीण चावल की चोरी कर ली थी।

इस पर स्थानीय ग्रामीणों ने आरोपी को चावल सहित पकड़कर केल्हारी पुलिस को सौंपा था। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 459, 380 के तहत कार्रवाई कर जेल भेज दिया था। मामले में आरोपी को कुछ दिन बाद जमानत पर रिहा कर दिया गया था और केस की सुनवाई में न्यायालय आया करता था।

आरोपी 15 अप्रैल को न्यायालय में पेशी में गया था। इस दौरान न्यायालय ने प्रकरण की सुनवाई कर सजा सुना दी। जज के मुंह से सजा सुनकर आरोपी कोर्ट परिसर से भाग निकला था। मामले में जनकपुर पुलिस ने दूसरे दिन आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायालय में प्रस्तुत किया है।


आरोपी ससुराल में कच्चे मकान की छत में छिपा था
जनकपुर थाना प्रभारी आनंद सोनी के नेतृत्व में फरार आरोपी को पकडऩे खोजबीन की जा रही थी। इस दौरान मुखबिर से सूचना मिली कि आरोपी अपने सुसराल ग्राम खेतौली में चाचा ससुर के घर छिपा है। इस पर पुलिस टीम ने घेराबंदी कर छापा मारा तो आरोपी चाचा ससुर के कच्चे मकान की छत (पटाव) में छिपा मिला।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned