पक्षियों का शिकार कर रही महामारी राजस्थान में 252 कौओं की मौत

राजस्थान में महामारी से पक्षियों की मौत ने चिंता बढ़ा दी है। अब सरकार ने राज्य स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है। वहीं कोटा, जोधपुर, भरतपुर एवं अजमेर संभाग में विशेष दल गठित किए गए हैं।

 

By: Jaggo Singh Dhaker

Published: 03 Jan 2021, 08:00 PM IST

कोटा. कोटा संभाग के झालावाड़ में हाल ही में एवियन इनफ्लूएन्जा से हुई कौओं की मौत के बाद सरकार की चिंता बढ़ गई है। राज्य में मुर्गीपालन व्यवसाय की सुरक्षा को लेकर विभागीय स्तर पर एहतियात के तौर पर तैयारी करने के साथ राज्य स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है। वर्तमान में कौओं में मृत्यु के कारण जानने के लिए राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग संस्थान भोपाल को भेजे गये सैम्पल में कौओं में एवियन इनफ्लूएन्जा से मौत की पुष्टि हुई है। पशुपालन विभाग की ओर से प्रभावित क्षेत्र में स्थानों को चिन्ह्ति कर मृत पक्षियों के शवों का वैज्ञानिक रूप से निस्तारण किया जा रहा है। बीमार पक्षियों का उपचार पशुपालन विभाग एवं वन विभाग की विशेष देखरेख में रखा जा रहा है।
अब तक झालावाड़ में 100, कोटा में 47, बारां में 72, पाली में 19, जोधपुर में 7 और जयपुर जलमहल में 7 सहित कुल 252 कौवों की मौत की सूचना विभाग को मिली है। जोधपुर, कोटा, बारां एवं जयपुर में मृत कौओं के शव व अन्य नमूने भोपाल स्थित प्रयोगशाला में भेजे गए हैं। कौओं की मौत होने की सूचना प्राप्त होते ही विभाग की ओर से कार्यवाही करते हुए कोटा और जोधपुर संभाग में उच्च अधिकारी प्रभावित क्षेत्र का दौरा कर स्थिति का मौका मुआयना कर चुके हैं।

मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक मोहन मीणा ने अवगत कराया कि कौओं में हो रही असामान्य मृत्यु की स्थिति से निपटने के लिए वन एवं पशुपालन विभाग के कर्मियों द्वारा आपसी सामंजस्य एवं सहयोग से कार्य किया जा रहा है। कोटा, जोधपुर, भरतपुर एवं अजमेर संभाग में विशेष दल गठित किए गए हैं। पशुपालन विभाग के निदेशक डॉ. वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि स्थिति पर नजर रखने के लिए विभाग ने राज्य स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। जिसका दूरभाष नंबर 0141-2374617 है। किसी भी आपातकालीन स्थिति के लिए नियंत्रण कक्ष से संपर्क किया जा सकता है।

Jaggo Singh Dhaker
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned