कोटा में कोरोना ने दो दिन में ले ली 9 जनों की जान

कोटा में कोरोना कहर बरपा रहा है। श्वसन तंत्र फेल होने से पीडि़तों की लगातार मौतें हो रही है। अब तक कोटा जिले में 98 लोगों की यह बीमारी जान ले चुकी है।

By: Jaggo Singh Dhaker

Updated: 26 Aug 2020, 10:32 AM IST

कोटा. कोटा में कोरोनावायरस से मौतों का कोहराम मचा हुआ है। बुधवार तड़के 4 और रोगियों की मौत हो गई। इससे पहले मंगलवार को 66 नए पॉजिटिव आए और 5 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई। इस तरह दो दिन में कोरोना ने 9 लोगों की जान ले ली। कोटा में कुल मौतों का आंकड़ा 98 पर पहुंच गया है। पॉजिटिव मरीजों की कुल संख्या 4874 पर पहुंच गई। मेडिकल कॉलेज की रिपोर्ट के अनुसा बुधवार सुबह 23 नए कोरोना पॉजिटिव सामने आए हैं।
कोटा मेडिकल कॉलेज के कोविड समर्पित अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडरों की किल्लत भी तकलीफ दे रही है। मेडिकल कॉलेज ने अतिरिक्त सिलेंडरों की व्यवस्था की है, लेकिन रोगियों की संख्या लगातार बढऩे के कारण संसाधन कम पड़ते जा रहे हैं।
फ्लाईओवर निर्माण के चलते आज से वाहनों का मार्ग बदला
उधर, होम क्वारेंटाइन की गाइडलाइन की पालना में कोताही की शिकायतें आने पर जिला कलक्टर उज्जवल राठौड़ ने ं सरकारी चिकित्सा संस्थानों के प्रभारी अधिकारियों की बैठक ली। इसमें कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रभावी भूमिका निभाने और होम क्वारेंटाइन किए गए रोगियों का उपचार गाइडलाइन की पालना से करने पर जोर दिया।
जिला कलक्टर ने कहा कि सभी चिकित्सा अधिकारी आपसी समन्वय व टीम भावना के साथ कोरोना संक्रमण रोकने के लिए कार्य करें। जो भी उत्तरदायित्व दिए जाएं उसकी समय पर पालना सुनिश्चि हो। होम क्वारेंटाइन किए गए सभी नागरिकों की प्रतिदिन जांच व संपर्क बनाए रखें। क्वारेंटाइन की सुविधा नहीं होने पर कोविड केयर सेंटर अलनिया में भिजवाना सुनिश्चित करें। सीएमएचओ डॉ. भूपेन्द्र सिंह तंवर ने कहा कि सभी चिकित्सा अधिकारी परिजनों को भी बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में विस्तार से बताया जाए।
मेडिकल कॉलेज के डॉ. निलेश जैन ने कहा, लक्षण नहीं दिखाई देने वाले रोगियों को होम क्वारेंटाइन या कोविड केयर सेंटर पर भिजवाना आवश्यक है। उन्होंने होम आइसोलेशन के रोगियों को दी जाने वाली दवाओं, सावधानियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि किसी भी स्तर पर गैप होने पर संक्रमण फैलने का अंदेशा रहता है।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर प्रवीण जैन ने सुझाव दिया कि किसी भी नागरिक की कोरोना जांच के दौरान उसका पहचान पत्र का दस्तावेज अनिवार्य किया जाए। जिससे पॉजिटिव पाए जाने पर तुरन्त संपर्क किया जा सके। उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में पुलिस द्वारा सक्रियता से सहयोग प्रदान किया जाएगा।

coronavirus
Jaggo Singh Dhaker
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned