कोटा में इन खास बच्चों का बर्थडे हर साल नहीं, चार साल बाद आएगा

कोटा. वर्ष 2020 लीप इयर है। यानी इस वर्ष फरवरी माह में 29 दिन थे। फरवरी माह के आखिरी दिन कोटा जिले में 94 बच्चों ने जन्म लिया।

By: Deepak Sharma

Updated: 01 Mar 2020, 09:14 PM IST

कोटा. वर्ष 2020 लीप इयर है। यानी इस वर्ष फरवरी माह में 29 दिन थे। फरवरी माह के आखिरी दिन कोटा जिले में 94 बच्चों ने जन्म लिया। कोटा मेडिकल कॉलेज से संबद्ध नए अस्पताल व जेके लोन अस्पताल में 35 बच्चों का जन्म हुआ। शेष बच्चे निजी अस्पतालों और ग्रामीण क्षेत्र के संस्थागत प्रसव में जन्मे। इन सब बच्चों के लिए खास पहलू यह है कि अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार जन्मदिन मनाएंगे तो उन्हें अपना जन्मदिन का जश्न आगामी चार साल के लंबे इंतजार के बाद नसीब होगा। इन खास बच्चों में 46 लडकियां और 48 लडके शामिल हैं।

नए अस्पताल में शुक्रवार रात से शनिवार रात 12 बजे तक कुल 9 प्रसूताओं के बच्चे पैदा हुए। इनमें 7 नॉर्मल, 2 सीजेरियन हुए। जबकि जेके लोन में कुल 26 प्रसूताओं के बच्चे पैदा हुए है। इनमें 16 नॉर्मल व 10 सीजेरियन हुए। इसके अलावा निजी अस्पतालों व जिले के ग्रामीण क्षेत्र में 59 बच्चे जन्मे।

विलक्षण प्रतिभा के धनी होते ऐसे बच्चे
असल में चार से पूरी तरह विभाज्य वर्ष में फरवरी 29 दिन की होती है। इसे लीप ईयर कहते है। लीप ईयर में 365 की बजाय 366 दिन होते है। इन दिन 29 फरवरी को जन्मे लोगों को लीपर्स कहते है। जिनका जन्मदिन चार साल के अंतराल में आता है। ज्योतिषियों के अनुसार, लीपर्स विलक्षण प्रतिभा के धनी होते है।

हिन्दी पंचांग में ऐसी कोई तिथि नहीं होती, जो चार साल में एक बार आए। इसलिए 29 फरवरी को पैदा होने वाले बच्चों का जन्म हर साल हिन्दी माह की तिथि को मना सकते हैं।

Show More
Deepak Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned