जिला शिक्षा अधिकारी व वरिष्ठ सहायक के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल

एसीबी स्पेशल यूनिट कोटा ने 40 हजार रुपए की घूस के मामले में झालावाड़ के तत्कालीन जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक व अतिरिक्त प्रभार जिला परियोजना समन्वयक रंगलाल मीणा तथा जिला परियोजना समन्वयक जिला झालावाड़ कार्यालय के वरिष्ठ सहायक दीपक वर्मा के खिलाफ शनिवार को न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल कर दिया है, जबकि सहायक लेखा अधिकारी सानिवि खंड झालावाड़ के महेंद्र मीणा एवं झालावाड़ के ट्रेजरी कर्मचारी रवि गुर्जर अनुसंधान लंबित रखा गया है।

By: Ranjeet singh solanki

Updated: 16 Jan 2021, 08:47 PM IST

कोटा. एसीबी स्पेशल यूनिट कोटा ने 40 हजार रुपए की घूस के मामले में झालावाड़ के तत्कालीन जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक व अतिरिक्त प्रभार जिला परियोजना समन्वयक रंगलाल मीणा तथा जिला परियोजना समन्वयक जिला झालावाड़ कार्यालय के वरिष्ठ सहायक दीपक वर्मा के खिलाफ शनिवार को न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल कर दिया है, जबकि सहायक लेखा अधिकारी सानिवि खंड झालावाड़ के महेंद्र मीणा एवं झालावाड़ के ट्रेजरी कर्मचारी रवि गुर्जर अनुसंधान लंबित रखा गया है। प्रकरण के अनुसार 19 अक्टूबर 2020 को परिवादी ईश्वर सिंह ने एक शिकायत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एसीबी कोटा देहात के समक्ष पेश की कि थी कि उसकी फ र्म कालिका स्टोन एंड कंस्ट्रक्शन कंपनी को 22 जुलाई 2018 को राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा परियोजना में जीएसएसएस सालोदिया में बिल्डिंग निर्माण कार्य लागत से 37,44,298 रुपए वर्क आर्डर दिया था। निर्माण कार्य को 26 जून 2019 को 33,25,703 रुपए में पूर्ण कर शाला विकास एवं प्रबंधन समिति को संबंधित इंजीनियर को हैंड ओवर कर दिया है। बिल्डिंग निर्माण कार्य के शेष बिलों को पास करवाने के लिए शिक्षा विभाग झालावाड़ के एडीपीसी रंगलाल मीणा व वरिष्ठ सहायक महेंद्र मीणा से कार्यालय में मिला तो दोनों अधिकारियों ने बिल पास करवाने की एवज में बिल की राशि का 2 प्रतिशत 44 हजार रुपए रिश्वत की मांग कर दीपक वर्मा वरिष्ठ सहायक से बात करने के लिए कहा। एसीबी ने शिकायत पर रिश्वत राशि की मांग का गोपनीय सत्यापन करवाया और उसके बाद शिक्षा विभाग झालावाड़ के वरिष्ठ सहायक दीपक वर्मा को परिवादी से 40 हजार रुपए रिश्वत राशि प्राप्त करते हुए गिरफ्तार किया। उसके बाद रंगलाल मीणा एडीपीसी को गिरफ्तार किया था। प्रकरण में ट्रेजरी कर्मचारी रवि गुर्जर द्वारा परिवादी से उसके बिल को ट्रेजरी से टोकन कर ईडब्ल्यूएस कर आरबीआई भेजने के लिए सत्यापन के दौरान 500 रुपए की रिश्वत राशि प्राप्त किया जाना प्रमाणित पाए गए हैं। मामले में आरोपी रवि कुमार एवं सहायक लेखा अधिकारी महेंद्र मीणा की तलाश जारी है। मामले में रवि कुमार की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज की जा चुकी है।

BJP Congress
Show More
Ranjeet singh solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned