पेटीएम से ली रिश्वत की पहली किस्त, जूस की दुकान पर ली बकाया घूस

अतिरिक्त ब्लॉक शिक्षा अधिकारी व कैशियर 10 हजार की घूस लेते गिरफ्तार
एसीबी कोटा की टीम ने कैशियर को जूस सेन्टर पर रिश्वत लेते दबोचा
खाना बनाने के 4.60 लाख के बिल के भुगतान की एवज में मांगी थी घूस

By: Deepak Sharma

Published: 12 Feb 2021, 07:10 PM IST

कोटा. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) कोटा की टीम ने शुक्रवार को अतिरिक्त ब्लॉक शिक्षा अधिकारी विनोद मिश्रा और कैशियर चन्द्रप्रकाश शर्मा को 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया। दोनों आरोपियों ने परिवादी से खाने का 4.60 लाख का बिल पास करने की ऐवज में रिश्वत की मांग की थी। एक साल से बिल का भुगतान अटका रखा था।
एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ठाकुर चन्द्रशील ने बताया कि नयापुरा निवासी परिवादी कृष्ण कुमार मोदी ने दिसम्बर 2019 में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय महावीर नगर में लगे शिक्षण शिविर के खाना बनाने का भुगतान 4.60 लाख रुपए का बिल अतिरिक्त ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कार्यालय के कैशियर व लोक जुम्बिश कार्मिक चन्द्र्रप्रकाश व अतिरिक्त ब्लॉक शिक्षा अधिकारी विनोद मिश्रा के समक्ष पेश किया था। दोनों ने बिल का भुगतान करने के लिए 20 हजार रुपए की घूस की मांग की। परिवादी ने आरोपी कैशियर को छह हजार रुपए दे दिए, इस पर उसने 3.70 लाख का चैक दे दिया। शेष 90 हजार रुपए का चेक बकाया रिश्वत देने के बाद बनाने के लिए कहा। परिवादी ने बकाया राशि का चेक जारी करने का कई बार आग्रह किया, लेकिन घूस की बाकी राशि 14 हजार देने के बाद ही चेक जारी करने की बात कही। हताश होकर परिवादी ने एसीबी को शिकायत दी। आरोपी कैशियर ने परिवादी को गुमानपुरा में शुक्रवार को एक जूस सेन्टर पर घूस की राशि लेकर बुलाया। कैशियर ने जैसे ही घूस ली, एसीबी ने उसे रंगेहाथों गिरफ्तार कर लिया। कैशियर ने यह रकम अतिरिक्त ब्लॉक शिक्षा अधिकारी विनोद मिश्रा के लिए लेने की बात कही और इस संबंध में मोबाइल पर बात की। इस एसीबी ने दोनों को गिरफ्तार लिया है। पुलिस निरीक्षक चन्द्रकंवर ने ट्रेप की कार्रवाई की। टीम में भरतसिंह, दिलीपसिंह, नरेन्द्रसिंह, मनोज आदि शामिल थे।

घूस भी पेटीएम से ली
परिवादी ने रुपयों का बंदोबस्त नहीं होने के कारण घूस की राशि देने में असमर्थतता जताई तो कैशियर ने पेटीएम से पैसे डालने के लिए, कहा जिस पर परिवादी ने 9 फरवरी को दो बार में 5000 रुपए पेटीएम से डलवा दिए। कैशियर का फिर गुरुवार को उसके पास फोन आया कि पेटीएम से एक हजार रुपए डलवा देना तथा दस हजार शुक्रवार को लेकर आ जाना।

Show More
Deepak Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned