मौसम अपडेट : बरसते सावन ने किया भादो का स्वागत, हाड़ौती में जमकर बरसे मेघ

-मानसून की फिर धमाकेदार पारी, कालीसिंध बांध के 5 गेट खोले, पानी की निकासी जारी
-कोटा, बूंदी, बारां, झालावाड़ जिले के कई क्षेत्रों में बरसात

By: KR Mundiyar

Published: 21 Aug 2021, 08:27 PM IST

कोटा.
बरसते सावन ने भादो मास का धमाकेदार स्वागत किया है। दस दिन के ब्रेक के बाद हाड़ौती क्षेत्र में शुरू हुई बरसात झूम के बरस रही है। शुक्रवार तड़के बरसात के बाद शनिवार शाम कोटा संभाग भर में बरसात का दौर जम गया। कोटा शहर समेत कई क्षेत्रों में बादलों की तेज गर्जना के साथ मूसलाधार बरसात हुई। झालावाड़ जिले के कालीसिंध बांध के पांच गेट खोलकर पानी की निकासी की जा रही है। झालावाड़ जिले में शनिवार को कई क्षेत्रों में अच्छी बरसात हुई। तेज गर्जना के साथ बरसते सावन ने भादो मास का स्वागत किया है। रविवार को श्रावण मास की पूर्णिमा यानि मास का अन्तिम दिन है।
हाड़ौती में गुरुवार से ही बरसात का मौसम बन गया था। शुक्रवार तड़के से कई क्षेत्रों में बरसात शुरू हो गई थी। शनिवार को बरसात का दौर पूरे हाड़ौती में छा गया। कहीं फुहार आ रही है तो कहीं पर रिमझिम व तेज बरसात का दौर चल रहा है। मौसम विभाग के अनुसार आगामी एक सप्ताह तक हाड़ौती में अच्छी बरसात होगी।

झालावाड़ :

भीमसागर बांध का देर शाम 7 बजे एक गेट खोलकर उजाड़ नदी निचले हिस्से में पानी निकासी हुई शुरू

खानपुर :

कस्बे सहित आस पास के क्षेत्र में शनिवार को दोपहर बाद एक घण्टे तक मूसलाधार बारिश हुई। बारिश के बाद कई दिनों से पड़ रही उमस और गर्मी से लोगो को राहत मिली।

झालरापाटन :

लंबे इंतजार के बाद कस्बे में शनिवार दोपहर को तेज बरसात शुरू हुई सुबह से तेज धूप और उमस रहने के बाद दोपहर 3:00 बजे आसमान में बादल छाए और दोपहर 3:40 बजे से बरसात शुरू हो गई .


भारी बरसात की संभावना-
मानसून की गतिविधियां फिर से जोर पकड़ सकती है। मौसम विभाग ने बंगाल की खाड़ी में बन रहे चक्रवात से पूर्वी राजस्थान में दूसरे दौर की बारिश होने की संभावना जताई थी। मौसम विभाग ने हाड़ौती व उदयपुर संभाग को यलो जोन में घोषित किया था। मौसम केन्द्र जयपुर के अनुसार, मानसून के वापस एक्टिव होने के कारण बंगाल की खाड़ी व उड़ीसा-आंध्रप्रदेश से लगते हुए क्षेत्र के निकट लो प्रेशर एरिया बनना है। जिसके प्रभाव से पूर्वी राजस्थान के कुछ भागों में तीव्र मेघगर्जन के साथ वज्रपात होने की भी संभावना बनी रहेगी। आगामी दिनों में हाड़ौती समेत प्रदेश के अन्य जिलों में अच्छी बारिश होगी।


दस दिन पहले बने थे बाढ़ के हालात-
ज्ञात है कि इससे पहले 26 जुलाई से 10 अगस्त तक बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवात से पूर्वी राजस्थान में भरपूर बारिश हुई थी। हाड़ौती में बाढ़ के हालात बन गए थे। कोटा में मानसून की औसत बारिश का आंकड़ा 716.6 एमएम है, लेकिन औसत से भी अधिक बारिश हो चुकी है। अब तक कुल 815.6 एमएम बारिश दर्ज हो चुकी है। 10 अगस्त के बाद मानसून की गतिविधियों पर ब्रेक लगा था। उसके बाद से मौसम साफ है और लगातार पारा चढ़ता जा रहा है।

मौसम अपडेट : बरसते सावन ने किया भादो का स्वागत, हाड़ौती में जमकर बरसे मेघ

कालीसिंध बांध के 5 गेट खोले
Jhalawar District - रीछवा कस्बे सहित क्षेत्र में शनिवार शाम को हल्की बारिश हुई। लंबी खेंच के बाद हुई बारिश से खरीफ की फसलों को फायदा हुआ। पडौसी राज्य मध्यप्रदेश के कुंडालिया बांध के कैचमेंट क्षेत्र में दिनभर बारिश होने से कालीसिंध बांध में पानी की तेज आवक हुई। जलसंसाधन विभाग के अधिशाषी अभियंता बजरंग लाल जाट ने बताया कि कुंडालिया बांध से निकासी के कारण शनिवार शाम को बांध के 5 गेट कुल 20 मीटर तक खोलकर 76 हजार 994 क्युसेक पानी की निकासी की जा रही है।

Show More
KR Mundiyar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned