Special Story: 'डिब्बे की 'आवाज' तय करती है आईपीएल सट्टे का भाव ! फिर होता है करोड़ों का सौदा...

टॉस, रन और बॉल से लेकर आउट होने और क्रीज पर टिके रहने तक की लगती है बोली...

By: Suraksha Rajora

Published: 10 Apr 2019, 06:00 AM IST

कोटा. सेशन एक पैसे का है, 'मैने चव्वनी खा ली हैÓ, 'डिब्बे की आवाज कितनी है, 'तेरे पास कितने लाइन है, 'आज फेवरिट कौन है, 'लाइन को लंबी पारी चाहिए... कहने को ये सिर्फ चंद ऊटपंटाग शब्द लगें, लेकिन इनके बोलने में करोड़ों का लेनदेन हो रहा है। बात हो रही है आईपीएल पर सट्टे बाजार की। पूरे देश में इन दिनों करोड़ों का सट्टा लग रहा है।

 

इस खेल की भाषा भी अजीबो गरीब है। सट्टा लगाने वाले व्यक्ति को लाइन कहा जाता है, जो एजेंट यानी पंटर के माध्यम से बुकी (डिब्बे) तक संपर्क करता है। एजेंट को एडवांस देकर अकाउंट खुलवाना पड़ता है, जिसकी एक लिमिट होती है। सट्टे के भाव को डिब्बे की आवाज बोला जाता है। हाल में पकड़े गए युवकों से पुलिस पूछताछ में इसका खुलासा हुआ।

 

आईपीएल क्रिकेट में सट्टेबाज 20 ओवर को लंबी पारी, दस ओवर को सेशन और छह ओवर तक सट्टा लगाने को छोटी पारी खेलना कहते हैं। मैच की पहली गेंद से लेकर टीम के जीत तक भाव चढ़ते उतरते हैं। एक लाख को एक पैसा, 50 हजार को अठन्नी, 25 हजार को चवन्नी कहा जाता है।

 

यदि किसी ने दांव लगा दिया और वह कम करना चाहता है तो फोन कर एजेंट को 'मैंने चवन्नी खा ली' कहना होता है। खास बात यह है कि यह पूरा नेटवर्क आधुनिक संचार प्रणाली लेपटॉप, मोबाइल, वाइस रिकार्डर आदि पर ही चल रहा है।
सावधानी इतनी बरती जाती है कि एक बार कोई मोबाइल नंबर यूज हो गया तो उसे दोबारा इस्तेमाल नहीं किया जाता।

 

सूदखोर बांट रहे सट्टे के लिए रकम


आप यह सोचेंगे कि आपका बेटा कॉलेज जाता है और कुछ करता नहीं तो उसके पास सट्टा खेलने के लिए रुपया ही नहीं होगा। तो यह गलत है, क्योंकि एनआईटी एरिया से लेकर शहर में कई जगह ऐसे सूदखोर हैं जो सट्टा खेलने के लिए रुपया ब्याज पर दे रहे हैं। इनसे कोई भी अपने दोस्त की जमानत पर रकम ले सकता है।

सट्टे की भाषा

बुकी------------------डिब्बा
एजेंट-----------------पंटर

क्लाइंट---------------लाइन
एक लाख------------एक पैसा

सवा लाख------------सवा पैसा
25 हजार------------चव्वनी

50 हजार------------अठन्नी
भाव------------------डिब्बे की आवाज

20 ओवर------------लंबी पारी
10 ओवर-------------सेशन

छह ओवर------------छोटी पारी
शर्त कम करना-------खा जाना

 

Show More
Suraksha Rajora
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned