छबड़ा आगजनी प्रकरण: भाजपा की जांच कमेटी बोली, पुलिस की लापरवाही से बढ़ा विवाद

कोटा सर्किट हाउस पहुंचे सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरिया ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि जो घटना घटित हुई है, वह काफी दु:खद है। इसमें दुकानें जलने से काफी नुकसान हुआ है। इसमें निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।

By: Jaggo Singh Dhaker

Published: 12 Apr 2021, 05:54 PM IST

कोटा. बारां जिले के छबड़ा में चाकूबाजी की घटना के बाद रविवार को हुए उत्पात और आगजनी की घटना के बाद भाजपा ने चार सदस्यीय जांच कमेटी बनाई है। इसमें सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरिया, विधायक संदीप शर्मा, विधायक चंद्रकांता मेघवाल और आनंद गर्ग को शामिल किया है। पुलिस के अधिकारियों ने फोन पर उनसे कहा, वे कोटा में ही उनकी बात सुनने के लिए तैयार हैं। इसके बाद कोटा शहर पुलिस अधीक्षक विकास पाठक और अतिरिक्त संभागीय आयुक्त नरेश मालव सर्किट हाउस आए और समित के सदस्यों से चर्चा की। टोंक-सवाई माधोपुर सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरया के नेतृत्व में कोटा दक्षिण विधायक संदीप शर्मा, केशवरायपाटन विधायक चंद्रकांता मेघवाल ने कहा, इस मामले में निष्पक्ष कार्यवाही करनी चाहिए।

पुलिस ने कार्यवाही नहीं की, इसलिए हुई घटना: जौनपुरिया

कोटा सर्किट हाउस पहुंचे सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरिया ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि यह जो घटना घटित हुई है, वह काफी दु:खद है। इसमें दुकानें और शोरूम जलने से काफी नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा, बारां पहुंचने से पहले ही अधिकारियों के उनके पास फोन आना शुरू हो गए कि वहां जाएंगे तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। सच जनता के सामने नहीं आए, इसलिए एेसा रवैया अपनाया गया है। जौनपुरिया ने कहा कि प्रशासन नाकाम है और इस घटना को छुपाने के लिए दोनों तरफ बराबरी की बात कही जा रही है, जो कि सरासर गलत है। जो हकीकत में घटित हुआ है, उसे प्रशासन दबा रहा है। साथ ही कह रहा है कि दोनों तरफ से आगजनी और चाकूबाजी हुई है और बराबर का केस बनाया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि मामले में जो भी दोषी है उसे गिरफ्तार करने की मांग कर रहे हैं। इस मामले में जिन्होंने चाकूबाजी की थी, उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाता तो यह घटना ही नहीं होती। रामगंजमंडी विधायक मदन दिलावर के छबड़ा उपद्रव पर सोशल मीडिया पर जारी किए एक भडक़ाऊ बयान पर भी सांसद जौनपुरिया ने कहा कि सबका अपना कहना होता है, जो नुकसान हुआ है हमें तो उसके बारे में बातचीत करनी है। हम नहीं चाहते कि विवाद बढ़े। मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। हम चाहते कि जो नुकसान हुआ है, उसकी भरपाई हो।

प्रशासनिक खामी से हुई घटना: मेघवाल

विधायक चंद्रकांता मेघवाल ने कहा कि प्रशासनिक तौर पर कहीं ना कहीं कुछ खामी हुई है। जिसके चलते इस घटना ने इतना बड़ा रूप ले लिया। प्रशासन और पुलिस की मौजूदगी में सब कुछ हुआ। उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस की ओर से समय रहते ठोस कार्यवाही नहीं की गई।

एक तरफा कार्रवाई हो रही: विधायक शर्मा

भाजपा की जांच कमेटी के सदस्य कोटा दक्षिण के विधायक संदीप शर्मा ने कहा कि सरकार एक तरफा कार्रवाई कर रही है।सरकार को किसी एक पक्ष का समर्थन नहीं करना चाहिए। जो लोग घायल हुए हैं, उनका पूरा इलाज करवाया जाए। इस पूरे घटनाक्रम के पीछे पुलिस और प्रशासन जिम्मेदार है। जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ सरकार संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करे।

कमेटी ने ये मांग रखी

सर्किट हाउस में कोटा सिटी एसपी और अतिरिक्त संभागीय आयुक्त के समक्ष कमेटी ने कहा, लापरवाही करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई हो। समय रहते हुए पर्याप्त बल क्यों नहीं बुलाया गया। पुलिस ने एक्शन लेने में देरी क्यों की, इसकी जांच होनी चाहिए। पीडि़तों को मुआवजा दिया जाए। किसी एक समुदाय के निर्दोष लोगों के खिलाफ मुकदमे दर्ज नहीं किए जाएं।

BJP
Jaggo Singh Dhaker
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned