Chaitra navratri 2019: इस बार अश्व पर आएंगी मां भगवती और हाथी पर होंगी विदा...पहली बार बन रहा ये योग

Chaitra navratri 2019: इस बार अश्व पर आएंगी मां भगवती और हाथी पर होंगी विदा...पहली बार बन रहा ये योग

Suraksha Rajora | Publish: Mar, 30 2019 06:38:22 PM (IST) Kota, Kota, Rajasthan, India

नव विक्रम वर्ष का प्रारंभ 6 अप्रैल से...

कोटा . "चैत्र नवरात्र को पूजा, उपासना, साधना की दृष्टि से सबसे अधिक फलदायी बताया गया हैं । हिन्दू धर्म के शास्त्रों में छ: ऋतुएँ जिन्हें नारी-रूप में बताया गया हैं, और प्रत्येक ऋतु एक विशेष नवरात्रि के रूप में मनाई जाती है । इनमें चैत्र नवरात्र को शक्ति रूप मां दुर्गा की आराधना के सर्वोपरी माना जाता हैं, इसी के साथ हिन्दू वर्ष का आरंभ भी होता है ।

 

जाने इस चैत्र नवरात्र में माता की कृपा पाने के लिए कौन कौन से नियमों का पालन करना चाहिए

 

इस साल 6 अप्रैल से चैत्र नवरात्र शुरू होंगे जो 14 अप्रैल तक रहेंगे । नवरात्र में इन नियमों का पालन करने से माता दुर्गा के अनेक आशीर्वाद मिलते है। ज्योतिषाचार्य अमित जैन के अनुसार नवरात्र में तीन सर्वार्थ सिद्धि योग, एक रवि पुष्य योग बन रहा है। रवि पुष्य योग तंत्र, मंत्र और यंत्र साधना के लिए विशेष फलदायी होता है।

 

 

6 अप्रैल से शुरू होकर चैत्र नवरात्र 14 अप्रैल तक चलेंगे। मां की आराधना के इस 9 दिवसीय उत्सव में 7 अप्रैल, 9 व 10 अप्रैल और 12 अप्रैल को सर्वार्थ सिद्धि योग बनेगा। यह बड़ा योग है। नवरात्र में पूरे चार दिन सर्वार्थ सिद्धि योग पहली बार बन रहा है।


नवरात्र का प्रारंभ शनिवार को होने से माता रानी अश्व पर सवार होकर आएंगी जो युद्ध का प्रतीक मानी जाती है। 6 अप्रैल को सूर्य व्यापिनी प्रतिपदा होने से नवरात्र एवं नव विक्रम वर्ष का प्रारंभ 6 अप्रैल से माना जाएगा। इसी दिन घट स्थापना कर मां भगवती की आराधना की जाएगी।


1- नौ दिनों तक प्रतिदिन सुबह 6 बजे तक स्नान कर ही लेना चाहिए, एवं हर दिन धुले हुए वस्त्रों को ही धारण करें ।
2- दिन में केवल एक बार सात्विक भोजन करना चाहिए ।
3- नौ दिनों तक घर का बना हुआ भोग ही माता रानी को अर्पित करनी चाहिए, ओर अगर संभव नहीं हैं तो दूध और फलों का भोग लगा सकते हैं ।
4- नौ दिनों तक घर के पूजा स्थल एवं नजदीक के मंदिर में सुबह एवं शाम को गाय के घी का दीपक जलायें ।

5- संभव हो तो नौ दिनों तक 7 साल से छोटी दो कन्याओं को फल या अन्य कोई उपहार भेंट, शाम के समय अवश्य करें ।
6- नौ दिनों तक माता के बीज मंत्रों, चालीसा, स्त्रोत आदि जप, पाठ अनिवार्य रूप से करें ।
7- संभव हो नौ दिनों तक गाय के घी का अखण्ड दीपक अवश्य जलाना चाहिए
8- दुर्गा सप्तशती या देवी माहात्म्य पारायण कराने से जीवन में उत्कृष्ट प्रगति, समृद्धि और सफलता मिलती हैं

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned