दोगुनी रफ्तार से बढ़ रहा कोरोना

शहर में कोरोना दोगुनी रफ्तार से बढ़ रहा है। अक्टूबर के मुकाबले नवम्बर में संक्रमण का दायरा बढ़ गया है। इससे पॉजिटिव मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है। कोरोना को अब नजर अंदाज नहीं करें और न ही उसे हल्के में लें।

 

 

By: Abhishek Gupta

Published: 22 Nov 2020, 12:40 PM IST

कोटा. शहर में कोरोना दोगुनी रफ्तार से बढ़ रहा है। अक्टूबर के मुकाबले नवम्बर में संक्रमण का दायरा बढ़ गया है। इससे पॉजिटिव मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है। कोरोना को अब नजर अंदाज नहीं करें और न ही उसे हल्के में लें। जरा, सी भी स्वास्थ्य परेशानी हो तुरंत अपनी जांच करवा लें। दरअसल, शहर में दिवाली त्योहारी सीजन होने के कारण लोग बाजारों में खरीदारी के लिए पहुंचे। भीड़-भाड़ वाले इलाकों में खरीदारी करने से आपस में सम्पर्क आए। दुकानदारों व ग्राहकों ने मास्क, सोश्यल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं की। इसी के चलते शहर में कोरोना का बम फूटा और दिवाली के बाद कोरोना ने एक बार फिर अपना तेवर दिखाना शुरू कर दिया। इससे लोग पहले की अपेक्षा अधिक संक्रमित होने लगे है।

पहले औसत 65 अब 109
अक्टूबर माह के आंकड़े देखे तो पहले औसत 65 कोरोना के मरीज सामने आ रहे थे। नवम्बर में अब 109 मरीज सामने आ रहे है। ऐसे ही यदि दिवाली के बाद के छह दिनों के आंकड़े देखे तो 938 संक्रमित मरीज मिले है, यानी औसत रोज 156 मरीज पॉजिटिव मिले है, वहीं दिवाली के पहले छह दिनों में कुल 519 मरीज संक्रमित मिले थे, यानी औसत रोज 98 मरीज संक्रमण की चपेट में आ रहे थे। जबकि सेम्पलों का दायरा भी हजार से 1200 ही था। अक्टूबर के 31 दिनों में कुल 2003 कोरोना संक्रमित मरीज मिले है। जबकि नवम्बर के 21 दिनों में 2292 नए संक्रमित मरीज मिल चुके है।

मॉनिटरिंग की कमी!
एक समय ऐसा भी आया था जब कोटा में कोरोना संक्रमितों के केस कम हो गए थे। प्रतिदिन 50 से 100 मरीज ही सामने आ रहे थे। चिकित्सा विभाग ने रैंडम सेम्पलिंग बन्द कर दी। संक्रमितों के परिजनों को दवा ही दी जा रही थी। विभागों में तालमेल की कमी के चलते सेनेटाइजेशन पर भी ध्यान नहीं दिया गया। होम आइसोलेशन के दौरान मॉनिटरिंग की कमी के चलते संक्रमित मरीज बाजारों में घूमते रहे। दिवाली के त्योहार पर सोशल डिस्टेंस व नो मास्क-नो एंट्री की पालना नहीं हुई। नतीजा दिवाली के बाद से एकदम से संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ गया।

धारा 144 का सहारा...
संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए अब धारा 144 का सहारा लिया जा रहा है। जिला कलक्टर ने आदेश जारी कर शनिवार सुबह 6 बजे से 21 जनवरी 2021 तक निषेधाज्ञा लागू की है। इसके तहत मास्क पहनना अनिवार्य होगा। वहीं सामूहिक गतिविधियां, रैली, जुलूस, सभा व सार्वजनिक समारोह पर अनुमति के बिना पाबंदी लगा दी है।

इनका यह कहना
सीएमएचओ डॉ. बीएस तंवर ने बताया कि नवम्बर में कोरोना का संक्रमण बढ़ गया है। अक्टूबर में जहां 50 से नीचे केस आ रहे थे। उसके बाद एक नवम्बर को 50 से ऊपर केस आए। दूसरे वीक में 100 से ऊपर हुए। अब तीसरे वीक में 200 से ऊपर आंकड़ा बढ़ गया। यह चुनाव व दिवाली के बाद फैलाव हुआ है। ऐसे मरीजों को चिहिन्त कर उन्हें बताया जा रहा है कि आपके द्वारा यह फैलाव बढ़ा है। सोश्यल डिस्टेंसिंग व कोविड गाइड लाइन का उल्लंघन किया है। उसे समझे और फैलाव नहीं हो। इस कारण अपने आपको आइसोलेट कर लें। प्रशासन, शिक्षा, निगम व आईईसी के माध्यम से बचाव के प्रति जागरुक किया जा रहा है। लोग लापरवाह नहीं बने। इससे अस्पतालों में संसाधन कम पड़ जाएंगे और इलाज में दिक्कत हो सकती है। मास्क का प्रयोग करें। हाथों को धोते रहे। ग्रुप में नहीं रहे। दो गज की दूरी का पालन करें। इससे कोरोना का फैलाव कम हो सकेगा।

Abhishek Gupta
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned