कोरोना गाइडलाइन की पालना बिना न्यायालय परिसर में घुसे तो खैर नहीं

- सीजेएम, बार, न्यायिक कर्मचारी व विधिक प्राधिकरण रख रही नजर, किया निरीक्षण , आवश्यक प्रकृति के मामलों पर हो रही सुनवाई, वीडियो कांफे्रसिंग व ऑनलाइन चल रहा अदालत का काम

By: Mukesh

Updated: 07 Jul 2020, 01:28 AM IST

कोटा. न्यायालयों के खुलने के बाद न्यायालय परिसर में कोरोना महामारी के प्रसार को रोकने के लिए राजस्थान उच्च न्यायालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की पालना में सोमवार को सीजेएम वीरेन्द्र प्रताप सिंह, विधिक प्राधिकरण सचिव महेन्द्र कुमार अग्रवाल, उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी घनश्याम मीणा ने न्यायालय परिसर का निरीक्षण किया।

इस दौरान न्यायालय परिसर में प्रवेश द्वार पर प्रवेश करते समय पक्षकारों, अधिवक्ताआें, न्यायिक अधिकारियों, न्यायिक कर्मचारियों की थर्मल स्कैनिंग, सेनेटाइजेशन, सोशल डिस्टेन्सिंग की पालना, न्यायालय परिसर में गुटखा, तम्बाकू, पान के प्रयोग पर पूर्ण निषेध को लेकर निरीक्षण कर जागरूक किया गया।

इसके अलावा कोटा जिले की दीगोद व इटावा तालुका स्थित न्यायालयों परिसरों का भी विधिक प्राधिकरण सचिव अग्रवाल, उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने निरीक्षण किया। इटावा न्यायालय परिसर में निरीक्षण के दौरान न्यायिक मजिस्ट्रेट इटावा ममता मीणा, ब्लॉक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा.कमल व दीगोद में न्यायिक मजिस्ट्रेट पंकज काबरा एवं ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी, डा. मनोज उपस्थित रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned