झालावाड़ : तीन में मिले कोरोना लक्षण, प्रशासन सख्त

अंतिम पुष्टि के लिए तीनों लोगों की जांच एसएमएस मेडिकल कॉलेज जयपुर भेजी गई है।

By: Deepak Sharma

Updated: 08 Apr 2020, 01:37 AM IST

झालावाड़. कोटा के बाद मंगलवार को झालावाड़ में भी कोरोना ने दस्तक दे दी है। जिले में तीन लोगों में प्राथमिक स्क्रीनिंग में कोरोना के लक्षण मिले हैं। अंतिम पुष्टि के लिए तीनों लोगों की जांच एसएमएस मेडिकल कॉलेज जयपुर भेजी गई है। जिले में पहली बार कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट की सूचना मिलने के बाद जिलेभर में हड़कंप मच गया। जानकारों ने बताया कि पिड़ावा निवासी तीनों लोग 18 मार्च को इंदौर में कपड़े खरीदने गए थे। वहां से 19 मार्च को वापस आए। हालांकि घर में शादी स्थगित दी गई थी। वहीं कुछ लोग यह भी बता रहे है कि कोरोना पॉजिटिव आए लोग कोटा में किसी की मौत होने पर वहां गए थे। कोटा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. विजय सरदाना ने बताया कि झालावाड़ जिले के पिड़ावा में प्राथमिक स्क्रीनिंग में कोरोना के लक्षण मिले है, अंतिम पुष्टि के लिए जांच जयपुर भिजवाई गई है। उधर कोटा के नए अस्पताल में इन लोगों को भर्ती करने के लिए सुरक्षा व्यवस्था बढ़ दी गई है।

कोटा के लिए असल परीक्षा अब


पिड़ावा पहुंचे अधिकारी
कोरोना पॉजिटिव आने के बाद चिकित्सा विभाग सहित कई जिलास्तरीय अधिकारी पिड़ावा पहुंच गए। वहीं मुख्य चिकित्सा एचं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. साजिद खान के निर्देश पर नगर परिषद झालावाड़ से फायर बिग्रेड की एक गाड़ी भेजकर पूरे पिड़ावा कस्बे में हाइपोक्लोराइड का स्प्रे करवाया गया है। वहीं पूरी तरह से शहर में लोगों की आवाजाही बंद कर दी गई है। पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। लोगों को घरों से बाहर निकलने के लिए मना किया जा रहा है।


बॉर्डर की सील
जिला पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी ने बताया कि कोटा में कोरोना पॉजिटिव आने के बाद जिले में भी सख्ती कर दी गई है। कोटा से आने वाले वाहनों को शहर में नहीं घूसने दिया जा रहा है। कोटा-झालावाड़ की बार्ड को सील कर दिया गया है।शहर के लोगों से अपील है कि वह घरों में रहे, दुपहिया वाहन लेकर सड़कों पर बिलकुल नहीं निकले। यदि बेवजह कोई पकड़ा गया तो उसके वाहन को जब्त किया जाएगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। साथ ही जोशी ने पुलिस के जवानों को हौंसला बढ़ाया और चौकस रहने को कहा। जवानों से कहा कि सभी ड्यूटी के दौरान मास्क लगाकर रखे, सैनेटाइजर भी साथ में रखे। गाड़ी को चेक करने या कागज देखेने के बाद हाथ पर सैनेटाइजर लगाए। वहीं जिले मेें मध्यप्रदेश की सीमा को भी सील कर दिया गया है।


कार्मिकों को किया होमआइसोलेट
जिले में बाहर से आए शिक्षा विभाग के 8 शिक्षकों को 14 दिन के लिए होम आइसोलेट किया। वहीं सूत्रों ने बताया कि जिले में अभी कोटा से कई चिकित्सक अपडाउन कर रहें है, ऐसे में संक्रमण का खतरा बना हुआ है। इन्हे भी मुख्यालय पर ही रहने के लिए पाबंद किया जाना चाहिए ताकि संक्रमण का खतरा नहीं रहे। जिले में बड़ी संख्या में बैंकों के कर्मचारी अभी भी कोटा से अपडाउन कर रहे हैं। ऐसे में संक्रमण का डर बना हुआ है।
मुख्यालय छोड़ा तो होगी सख्त कार्रवाई
जिले में लॉकडाउन के बाद भी कुछ अधिकारी व कर्मचारी प्रतिदिन उपडाउन कर रहे थे। ऐसे में जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने एक आदेश जारी कर लॉकडाउन में सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को जिला मुख्यालय पर ही रहने के निर्देश दिए है। साथ ही बिना अनुमति के मुख्यालय छोडऩे वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई कर संबंधित विभाग के शासन सचिव को कार्रवाई के लिए प्रकरण भेजा जाएगा।

Corona virus
Show More
Deepak Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned