आशा सहयोगिनी भी मिली कोरोना पॉजिटिव

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के साथ स्क्रीनिंग के काम में लगी हुई थी आशा,
आशा की रिपोर्ट पॉजीटिव आने पर चिकित्सा विभाग में मचा हड़कम्प

By: KR Mundiyar

Published: 18 Apr 2020, 12:08 AM IST

कोटा. चन्द्रघटा निवासी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के साथ स्क्रीनिंग के कार्य में लगी आशा सहयोगिनी भी शुक्रवार को कोरोना पॉजीटिव पाई गई। आशा सहयोगिनी की रिपोर्ट पॉजीटिव आने से चिकित्सा विभाग व महिला बाल विकास विभाग में हड़कम्प मच गया। गौरतलब है कि चन्द्रघटा निवासी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बुधवार को कोरोना पॉजीटिव आई थी। चिकित्सा विभाग ने संदिग्ध मानते हुए सैम्पल लेने के बावजूद उसकी ड्यूटी सर्वे व स्क्रीनिंग के कार्य में लगा दी गई थी। उसने कई जगहों पर सर्वे व स्क्रीनिंग का कार्य किया। उनके साथ करीब आधा दर्जन कार्मिकों की ड्यूटी लगी थी। इसमें चन्द्रघटा निवासी आशा सहयोगिनी भी शामिल थी। उस समय चिकित्सा विभाग ने आशा सहयोगिनी व अन्य कार्मिकों को होम क्वारंटाइन कर दिया। उसके सेम्पल लिए गए थे। उसकी रिपोर्ट भी शुक्रवार को पॉजीटिव मिली। आशा के पॉजिटिव आने की सूचना पर चिकित्सा विभाग में हड़कम्प मच गया। विभाग की टीमों ने चन्द्रघटा में आशा के घर के आसपास से चिकित्सा विभाग ने 70 जनों के सेम्पल लिए है।

ऑनलाइन व्यापार को सरकार की हरी झंडी का विरोध,कोटा
व्यापार संघ ने ट्वीट कर जताई पीड़ा

पति व बच्चों को आइसोलेट किया
चिकित्सा विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई कि जब आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कोरोना पॉजीटिव आई थी तो उसके साथ अन्य कर्मचारियों को अन्य जगहों पर आइसोलेट क्यों नहीं किया। उन्हें घर में होम क्वारंटाइन करने से उसके पति व बच्चे भी संदिग्ध की श्रेणी में आ गए। अन्य साथ लगे कार्मिकों में भी दहशत का माहौल बना हुआ है। इसके अलावा जिन क्षेत्रों में यह टीम गई थी, वहां के पीएचसी में कार्यरत कार्मिकों को क्वारंटाइन कर दिया था। आशा को चिकित्सा विभाग सुबह नए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया। आशा के पति ने पत्रिका को बताया कि नए अस्पताल में सुबह एम्बुलेंस से उन्हें व बच्चों को लेकर पहुंचे, लेकिन एक घंटे तक उन्हें धूप में रखा। उसके बाद अब संदिग्ध वार्ड में आइसोलेट कर रखा है।

एक्सरे में मिल रहे लक्षण

आशा को न तो बुखार आया और न जुकाम-खांसी हो रही। जब उसका एक्सरा किया गया तो उसमें कोरोना के लक्षण मिल रहे। इस कारण उसे आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया।

Read More : कोटा की भामाशाहमंडी में लॉक डाउन खत्म, लौटी रौनक

तेलघर से 60 सेम्पल लिए
तेलघर निवासी एक व्यक्ति की भी रेलवे अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। जानकारी के मुताबिक वो हार्ट अटैक से मौत होने बताया है, लेकिन तेलघर इलाका कोरोना एपिक सेंटर होने के कारण चिकित्सा विभाग की टीम ने तेलघर इलाके से भी सेम्पल लिए है। सीएमएचओ डॉ. बीएस तंवर ने बताया कि उनकी टीम ने इस इलाके से 60 जनों के सेम्पल लिए है।

Corona virus
Show More
KR Mundiyar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned