पति अस्पताल में भर्ती, पत्नी लॉकडाउन में फंसी

एक बेटा घर संभाले या अस्पताल में भर्ती पिता को

 

By: shailendra tiwari

Updated: 23 Apr 2020, 01:43 AM IST

कोटा. कोरोना के कोहराम से पूरी दुनिया दहल रही है। वैश्विक संकट के इस दौर में सबकुछ थम गया है। जो जहां है, वो वहीं अटक गया है। आमजन के जरूरी काम तक लॉकडाउन के कारण रुके हुए हैं। लॉकडाउन में फंसने का ऐसा ही एक मामला आया है, जिसमें बुजुर्ग पति-पत्नी पिछले एक माह से एक-दूसरे से दूर हैं। अब पति बीमार होकर अस्पताल में भर्ती हैं, लेकिन पत्नी करौली में होने के कारण उनके पास नहीं पा रही है।

कोटा से 16 हजार से अधिक विद्यार्थी घर जा चुके


केशवपुरा निवासी हीरालाल महावर की पत्नी कपूरी बाई करौली में लॉक डाउन के कारण फंस गई। इधर, 75 वर्षीय हीरालाल बीमार हो गए। उनकी तबीयत इतनी बिगड़ गई कि उन्हें एमबीएस अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा। अब बेटा मोहन घर को संभाले या बूढ़े पिता को।

सामाजिक कार्यकर्ता पूर्णेश वर्मा ने बताया कि हीरालाल की पत्नी कपूरी बाई अपनी बहू रचना के साथ 20 मार्च को रिश्तेदारों के पारिवारिक कार्यक्रम में भाग लेने करौली गई थी। एक-दो दिन वहां रुकी, इसी दौरान 22 तारीख को जनता कफ्र्यू और उसी रात से लॉक डाउन हो गया। इससे वह वापस नहीं आ सकी। अभी वह अपने रिश्तेदारों के यहां करौली में हैं। इधर पिछले तीन-चार दिन ये हीरालाल की तबीयत अचानक बिगड़ गई। एम्बुलेंस बुलाकर हीरालाल को अस्पताल भेजना पड़ा। जहां उपचार के लिए भर्ती कर लिया। अभी हीरालाल की तबीयत नाजुक है।

कोरोना सर्वे दल पर हमला, दो महिलाएं गिरफ्तार


एक बेटे की पिछले साल मौत हो गई

पूर्णेश ने बताया कि हीरालाल के एक बेटे राकेश की पिछले साल दिसम्बर में मौत हो गई। अब एक बेटा मोहन व उसकी पत्नी यहां हैं। मोहन के छोटे-छोटे बच्चे हैं। मोहन की मुश्किल यह है कि बूढ़े पिता को अस्पताल में संभालने के कारण वह घर को नहीं संभाल पा रहा। साथ ही, अस्पताल से घर आने पर संक्रमण का खतरा है। इस स्थिति में उसकी मां व भाभी वापस कोटा आ जाए तो समस्या का समाधान हो सकता है।

Corona virus
Show More
shailendra tiwari Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned