Corona update : कई सक्षम लोग पोर्टल पर कर रहे भूखे होने की झूठी शिकायत

कई शिकायतों पर रसद सामग्री देने रसद विभाग की टीम पहुंची तो सच सामने आया

 

 

 

By: KR Mundiyar

Published: 27 Mar 2020, 07:00 PM IST

कोटा. महामारी एवं लॉकडाउन की स्थिति में जिला प्रशासन एवं भामाशाह सतत प्रयास कर रहे हैं कि जरूरतमंदों को भोजन पैकेट और रसद सामग्री उनके घर पर ही मुहैया करवा दी जाए। इस बीच सुगम संपर्क पोर्टल पर दर्ज की गई कुछ शिकायतें जांच की झूठी पाई गई। जांच में यह बात सामने आई कि आर्थिक रूप से समक्ष व्यक्ति भी नि:शुल्क भोजन सुविधा का लाभ उठाने के लिए शिकायतें कर रहे हैं।

Read More : खुशियों की गणगौर आई पर ऐसे ...ईसर गौर से की कोरोना से मुक्ति की कामना

सुगम पोर्टल पर दो दिन से खाना नहीं मिलने की शिकायतों पर गुरुवार को जब रसद विभाग की टीम उनको सामग्री पहुंचाने गई तब कुछ शिकायतकर्ताओं की आर्थिक स्थिति देखकर भौचक्क रह गई। टीम की ओर से उच्चाधिकारियों से वार्ता की गई तब उन्हें निर्देश गए कि ये कि ऐसे सम्पन्न व्यक्तियों की रिपोर्ट तैयार की जाए और उनको कोई सामग्री नहीं दी जाए। कुछ लोगों की दो दिनों से भूखे होने की शिकायत झूठी पाई गई। जिला रसद अधिकारी ताहिर हुसैन ने बताया कि पुलिस चौकी के पास स्थित कच्ची बस्ती के बसंत कुमार, प्रेम नगर प्रथम के कालूराम और सलाम की ओर से भोजन नहीं मिलने की शिकायत की गई। इसी तरह प्रेम नगर के आमिर खान और कंसुआ अर्फ ोडेबल योजना के लेखराज की शिकायत झूठी पाई गई।

Read More : 100 डिस्टिलरी और 500 विनिर्माताओं को हैंड सेनेटाइजर्स बनाने की अनुमति

इन्होंने समक्ष होने और आवश्यकता नहीं होने के बाद भी भोजन के पकैट की मांग संपर्क पोर्टल पर की थी। इस कारण रसद विभाग को अनावश्यक मशक्कत करनी पड़ी। इससे वास्तविक जरूरत वालों को खाद्य सामग्री पहुंचाने का कार्य भी प्रभावित हो रहा है। प्रशासनिक स्तर पर ऐसे व्यक्तियों को जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक है फि र भी खाद्य सामग्री के लए झूठी शिकायतें कर रहे हैं उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही अमल में लाने जाने का निर्णय की तैयारी की जा रही है।

Corona virus
Show More
KR Mundiyar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned