तो कोटा को रेड से ओरेंज जोन में आने में लगेंगे 2 महीने ..

सेम्पलिंग का आंकड़ा 10 हजार भी पार नहीं हुआ

 

By: KR Mundiyar

Published: 10 May 2020, 10:48 PM IST

कोटा. मुख्यमंत्री के गृह जिले जोधपुर में कोरोना संक्रमण बढ़ा तो वहां मरीजों को चिहिन्त करने के लिए सेम्पलिंग के कार्य ने रफ्तार पकड़ ली। जिला प्रशासन व चिकित्सा विभाग ने जोधपुर को औरेंज जोन में लाने का काम तेजी से शुरू कर दिया। वहां 28 हजार 269 सेम्पलिंग हो चुकी, लेकिन कोटा पिछले अप्रेल माह में कोरोना संक्रमण बढऩे से रेड जोन में आ गया। लेकिन जिला प्रशासन व चिकित्सा विभाग ने यहां सेम्पलिंग बढ़ाने पर जोर नहीं दिया। अधिकारियों में तालमेल की कमी से कोटा में अब तक सेम्पलिंग का कार्य 10 हजार भी पार नहीं हुआ। सिर्फ 8416 सेम्पलिंग का कार्य हुआ। सेम्पलिंग का काम इसी रफ्तार से चला तो कोटा को ओरेंज जोन में आने में ही दो माह का समय लगेगा।

कोटा में 9 और कोरोना पॉजिटिव मिले, बकरा मंडी नया हॉटस्पॉट बना

ऐसे बढ़ रहा संक्रमण
कोटा में 6 अप्रेल को भीमगंजमंडी क्षेत्र के तेलघर में पहला पॉजिटिव मरीज सामने आया। इसके बाद 6 से 12 अप्रेल तक 40 पॉजिटिव व 1 की मौत हुई। 13 से 19 अप्रेल तक 60 पॉजिटिव आए और 20 से 26 अप्रेल तक 58 प्रॉजिटिव मरीज व तीन मरीज की मौत हुई। 27 अप्रेल से 3 मई तक 51 पॉजिटिव मरीज व 2 मरीज की मौत हुई 3 से 7 मई तक 35 तो 7 से 10 में 19 पॉजिटिव मरीज सामने आ चुके है। कोटा में कुल 250 संक्रमित मरीज सामने आ चुके है। इसमें से 10 पॉजिटिव मरीजों की मौत हो चुकी है। कोटा जिले के आंकड़े देखे तो औसत 7 मरीज प्रतिदिन वायरस से संक्रमित हुआ। जबकि शुरूआत के पहले सात दिन में इस वायरस ने 40 लोगों को संक्रमित किया था। उसके बाद से ही प्रति सप्ताह ये आंकड़ा 50 लोगों के संक्रमित होने तक पहुंच गया।

Corona virus
Show More
KR Mundiyar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned