सहकारी फ सली ऋ ण जमा होंगे अब 30 जून तक

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए किया निर्णय

By: Ranjeet singh solanki

Published: 27 Mar 2020, 04:51 PM IST

कोटा। राज्य सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए प्रदेश के किसानों को राहत देते हुए खरीफ. 2019 के सहकारी अल्पकालीन फ सली ऋ णों की वसूली अवधि 31 मार्च से 30 जून अथवा खरीफ फ सली ऋण लेने की तिथि से एक वर्ष, जो भी पहले हो तक बढ़ा दी गई है। इस संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं। सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने शुक्रवार को बताया कि काश्तकारों को वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए सहकारी बैंकों से फ सली ऋ ण प्राप्त करने वाले किसानों के ऋण वसूली की तिथि बढ़ाने का निर्णय किया है, ताकि वे शून्य प्रतिशत ब्याज सुविधा का लाभ प्राप्त कर सके। कोरोना वायरस की महामारी के चलते किसानों को ऋ ण जमा कराने में हो रही परेशानी से मुख्यमंत्री को अवगत कराया था, इस पर मुख्यमंत्री ने किसानों के हित में त्वरित निर्णय लेने के लिए निर्देश दिए थे। राज्य में केन्द्रीय सहकारी बैंकों की ओर से ग्राम सेवा सहकारी समितियों के सदस्य काश्तकारों को अल्पकालीन फ सली सहकारी ऋण वितरित किए जाते हैं। खरीफ में लिए गए फसली सहकारी ऋणों का चुकारा 31 मार्च तक करना होता है। महामारी के चलते राज्य सरकार ने 31 मार्च की तय देय तिथि को आगे बढ़ाते हुए अब ऋ णी काश्तकारों को खरीफ फ सली सहकारी ऋण 30 जून या जिस दिन ऋण लिया है उससे एक वर्ष की अवधिए इसमें से जो भी पहले हो तक जमा कराने की छूट प्रदान की है।
लोकसभा अध्यक्ष ने ध्यान में लाया था मसला
गौरतलब है कि गुरुवार को सांगोद पूर्व विधायक हीरालाल नागर ने इस संबंध में लोकसभा अध्यक्ष ओमा बिरला को पत्र लिखकर किसानों के हित में निर्ण करवाने का आग्रह किया था। लोकसभा अध्यक्ष की ओर से सरकार से बात की गई थी। नागर ने बताया कि अवधि बढ़ाने से किसानों को राहत मिलेगी।

BJP Congress
Show More
Ranjeet singh solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned