जेकेलोन अस्पताल में नवजात की मौत के बाद हंगामा

कोटा मेडिकल कॉलेज के जेकेलोन अस्पताल में नजवात की मौत के बाद उसके पिता की भी तबियत खराब हो गई। दादी उसके शव को लेकर इधर-उधर घूमती रही। वह कह रही थी कि कोई तो बताए बच्चे की मौत कैसे हो गई।

By: Jaggo Singh Dhaker

Published: 09 Jun 2021, 10:22 PM IST

कोटा. कोटा के जेके लोन अस्पताल में बुधवार को जमकर हंगामा हुआ। डिलीवरी के दौरान एक नवजात की मौत के बाद शव को लेकर दादी पहले कलक्ट्री पहुंची। यहां कलक्टर के नहीं मिलने पर वह सीधे जेके लोन अस्पताल अधीक्षक के चैम्बर में चली गई। वहां टेबल पर नवजात का शव रखकर अधीक्षक से पूछा कि नवजात की मौत कैसे हुई। अधीक्षक पहले तो काफी देर तक बोल नहीं पाए, फिर उन्होंने पूरे मामले में जांच का आश्वासन दिया। उसके बाद परिजन नवजात का शव लेकर गए। बाद में मामले की सूचना जिला कलक्टर उज्जवल राठौड़ के पास पहुंची तो उन्होंने अस्पताल अधीक्षक से तथ्यात्मक रिपोर्ट तलब की। इंदिरा गांधी नगर निवासी माधुरी (28) को 8 जून को जेके लोन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बुधवार दोपहर में उसे प्रसव पीड़ा हुई। डेढ़ बजे उसकी नॉर्मल डिलीवरी हुई, लेकिन बाद में बच्चे की मौत हो गई। परिजनों ने आरोप लगाया कि अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से बच्चे की मौत हुई। हंगामे की सूचना पर आरएसी के जवान व नयापुरा पुलिस मौके पर पहुंची। अस्पताल में करीब ढाई घंटे तक हंगामा होता रहा। प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ. बीएल पाटीदार ने बताया कि प्रसूता को 6 जून को 9 माह पूरे हो चुके थे। उसको 8 जून को अस्पताल लाए थे। 4-5 डॉक्टरों ने प्रसूता का इलाज किया। प्रसूता के ऑपरेशन की तैयारी कर रखी थी, लेकिन उसके दर्द तेज हुआ और नॉर्मल डिलीवरी हो गई। बच्चा जीवित पैदा हुआ था, लेकिन धडकऩ कमजोर थी। लापरवाही जैसी कोई बात नहीं है। परिजन खुद नॉर्मल डिलीवरी करने की बात कह रहे थे। बाद में ऑपरेशन के लिए तैयार हुए।

Show More
Jaggo Singh Dhaker
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned