scriptDue to the increase in the price of LPG cylinder, towards the forests | रसोई गैस से टूट रहा नाता, फिर जलने लगे चूल्हे | Patrika News

रसोई गैस से टूट रहा नाता, फिर जलने लगे चूल्हे

रसोई गैस के लगातार बढ़ते दाम से गरीब का गैस से नाता टूटने लगा है। ऐसे में गांवों में अब फिर से लकड़ी से चूल्हे जलने लगे हैं। गैस के दाम एक हजार रुपए पार कर चुके हैं जो गरीब लोगों के लिए वहन करना बूते से बाहर है। इससे उज्ज्वला योजना के तहत गरीबों को मिले गैस सिलेंडर भी घरों में शो-पीस बनकर रह गए हैं

कोटा

Published: May 11, 2022 03:41:10 pm


सांगोद (कोटा). गांवों में वन क्षेत्रों से लकडिय़ां काटकर घरों पर ले जाती महिलाओं के ²श्य पहले आम थे। उज्ज्वला योजना आई तो कुछ हद तक महिलाओं की लकडिय़ां काटकर लाने एवं फिर चूल्हा जलाकर खाना बनाने की समस्या काफी कम हो गई। लेकिन एक बार फिर गांवों के साथ यहां शहर में भी जंगलों से लकडिय़ां काटकर लाने के नजारे दिखने लगे हैं। महिलाएं व घर के बच्चे घरेलू कार्यो से निपटने के बाद चूल्हा जलाने के लिए लकडिय़ों का बंदोबस्त करते नजर आते हैं।
रसोई गैस से टूट रहा नाता, फिर जलने लगे चूल्हे
रसोई गैस से टूट रहा नाता, फिर जलने लगे चूल्हे
रसोई गैस के लगातार बढ़ते दाम से गरीब का गैस से नाता टूटने लगा है। ऐसे में गांवों में अब फिर से लकड़ी से चूल्हे जलने लगे हैं। गैस के दाम एक हजार रुपए पार कर चुके हैं जो गरीब लोगों के लिए वहन करना बूते से बाहर है। इससे उज्ज्वला योजना के तहत गरीबों को मिले गैस सिलेंडर भी घरों में शो-पीस बनकर रह गए हैं।
महिलाओं को चूल्हे के धुएं से निजात दिलाने के नाम पर केंद्र सरकार सरकार की ओर से चलाई गई उज्ज्वला योजना गैस के दाम बढऩे से फेल होती नजर आ रही। इससे ग्रामीण क्षेत्र में फिर से जंगल में महिलाओं का लकडिय़ां काटने का काम बढ़ गया है और घरों में चूल्हे जलने लगे हैं। महिलाएं रोज जंगल से लकडिय़ां काटकर 2 से 3 किलोमीटर दूर सिर पर लादकर घर पर स्टॉक कर रही है, ताकि गैस का पैसा बच सके और परिवार के लिए खाना पक सके।
चाय बनाने में गैस का इस्तेमाल गैस सिलेंडर महंगे होने से घरों में इसका इस्तेमाल भी कम होने लगा है। महिलाओं ने बताया कि गैस सिलेंडर महंगे मिल रहे हैं। घर का खर्च चलना मुश्किल है तो इतना महंगा सिलेंडर कैसे भरवाएं। ऐसे में चूल्हे चलाने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा है। लकड़ी भी नहीं मिलेगी तो गोबर से कंडे थेप लेंगे। इससे परिवार का कुछ खर्चा तो कम होगा। कई घरों में सिलेंडर इस्तेमाल केवल चाय बनाने व छोटे मोटे कामों में लिया जा रहा है।
दोगुने हो गए सिलेंडर के दाम महिलाओं ने बताया कि उज्ज्वला योजना के दौरान गैस सिलेंडर चार से पांच सौ रुपए में मिलता था। इससे घरों में भी लकडिय़ां जलाना बंद कर दी। धीरे-धीरे सिलेंडर की रेट बढ़ती गई और अब सिलेंडर की कीमत एक हजार से अधिक है। जो बजट के बाहर है। शुरुआती दौर में सब्सिडी मिलती थी वो अब नहीं मिल रही है। बचत के लिए जंगल से लकडिय़ां बीन कर ले आते हैं और उससे चूल्हा जलाकर भोजन पका लेते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: अपनी पत्नी पर खूब प्रेम लुटाते हैं इस नाम के लड़केबगैर रिजर्वेशन कर सकेंगे ट्रेन में यात्रा, भारतीय रेलवे ने जारी की सूचीनाम ज्योतिष: इन 3 नाम की लड़कियां जहां जाती हैं वहां खुशियों और धन-धान्य के लगा देती हैं ढेरजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंधन के देवता कुबेर की इन 4 राशियों पर हमेशा रहती है कृपा, अच्छा बैंक बैलेंस बनाने में रहते है कामयाबआपके यहां रहता है किराएदार तो हो जाएं सावधान, दर्ज हो सकती है एफआईआर24 हजार साल ठंडी कब्र में दफन रहा फिर भी निकला जिंदा, बाहर आते ही बना दिए अपने क्लोनअंक ज्योतिष अनुसार इन 3 तारीख में जन्मे लोगों के पास खूब होती है जमीन-जायदाद

बड़ी खबरें

महंगाई की मार! सरकार के इस फैसले से लगेगा तगड़ा झटका, 1 जून से महंगी हो जाएगी कार-बाइक की खरीदारीबंगाल के राज्यपाल के निशाने पर ममता बनर्जी के भतीजे, कहा - 'अभिषेक बनर्जी ने पार की लक्ष्मण रेखा'Haryana Congress Rally: पूर्व CM भूपेंद्र सिंह हुड्डा का बड़ा ऐलान- हमारी सरकार बनी तो 6 हजार रुपए देंगे वृद्धा पेंशनमानापाथी हिमालय के निचले इलाके में दिखा लापता नेपाली विमान, मुस्टांग में क्रैश होने की आशंका, सवार थे 22 लोगसुप्रिया सुले पर विवादित टिप्पणी के बाद बीजेपी नेता चंद्रकांत पाटील ने मांगी माफीअरविंद केजरीवाल ने कहा- हरियाणा में लाखों बच्चों का भविष्य अंधकार में, हमें मौका मिला तो बच्चे बनेंगे डॉक्टर-इंजीनियरउज्जैन की गली-गली में घूमे हैं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, शादी के कपड़े भी यहीं सिलाए, जानिए बार-बार क्यों आते थे यहांअमरनाथ यात्रा से पहले आतंकी साजिश नाकाम, ड्रोन को गिराया, स्टिकी बम बरामद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.