दक्षिण भारत में आए चक्रवात निवार ने बिगाड़ा मौसम, दिनभर 'चमकाती' रही सर्दी

दोपहर में कुछ देर धूप निकलने के बाद आसामन में छाया बादलों का पहरा

By: mukesh gour

Updated: 26 Nov 2020, 11:01 PM IST

बारां. शहर समेत जिले में गुरुवार को मौसम में आए बदलाव से लोग सकते में रहे। दोपहर में कुछ देर धूप निकलने के बाद आसामन में बादलों का पहरा हो गया। मावठ गिरने के आसार बने, लेकिन गिरी नहीं। मौसम के बदले मिजाज से बचने के लिए लोग घरों में दुबके रहे तो गांव की चौपालों पर अलाव जला समूह में लोग सर्दी से बचने के जतन करते दिखे। बारां का अधिकतम तापमान 25 व न्यूनतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस रहा। लेकिन लोगों में मौसम विभाग के पूर्वानुमान को लेकर लोगों ने पूरी एहतियात बरती। मौसम विभाग ने प्रदेश में अगले तीन दिन शीत लहर चलने के पूर्वानुमान की घोषणा की है।

read also : एसपी साब तक पहुंची शिकायत को रफा दफा करने को मांगी रिश्वत, एएसआई को 3 साल कैद

पहाड़ी राज्यों में हो रही भारी बर्फबारी व तमिलनाड़ समेत तीन राज्यों में निवार चक्रवात की संभावना तथा संभाग के कोटा व बूंदी जिलों में मावठ गिरने से जिले के लोग भी सुबह से ही मौसम पर टकटकी लगाए थे। लोगों को उम्मीद थी कि बूंदी व कोटा के बाद अब बारां जिले में भी मावठ की बरसात हो सकती थी। सुबह से छाए बादल भी लोगों की इस संभावना को बल दे रहे थे। लेकिन दिनभर बादलों की आवाजाही के बाद बारिश तो नहीं हुई, गलन का अहसास जरूर बढ़ा रहा। ऐसे में लोग ऊनी वस्त्रों में लिपटे नजर आए। शहर में निकाय चुनाव की गर्मी भी मौसम की चपेट में आ गई। बाजारों में चुनावी चौपालें नहीं सजी, हालांकि नामांकन भरने के लिए रिटर्निंग अधिकारी कार्यालय में खासी गहमा-गहमी नजर आई।

read also : Video: हत्या के आरोपियों को पुलिस कमाण्डों के घेरे में ले जाना पड़ा अदालत

खूब जले अलाव
ग्रामीण क्षेत्रों में सर्दी का असर अधिक रहा। ऐसे में वहां दिनभर लोग अलाव जला सर्दी से बचने के जतन करते रहे। कई परिवारों ने तो घरों में अलाव जलाए। ग्रामीण क्षेत्रों में तो लोग देर शाम ही बिस्तरों में दुबक गए। इससे गांवों में भी चहल-पहल नजर नहीं आई।

Show More
mukesh gour
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned