डेढ़ घंटे मौत से संघर्ष, जिंदगी से हारा हाथी, जिम्मेदारों ने मुंह फेरा, लोगों का हुजूम, जेब कटी तो लोगों ने की धुनाई

Suraksha Rajora

Updated: 21 Sep 2019, 06:00:18 PM (IST)

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा. सीएडी सर्किल पर उस वक्त भीड़ जमा हो गई जब एक हाथी अचानक गश खाकर गिर पड़ा देखते ही देखते जाम की स्थिति बन गई । अचानक हुए हादसे को लेकर महावर भी सकते में आ गया । राह चलते बीच चौराहे सड़क पर गिरे हाथी को देखने वालो का हुजूम उमड़ पड़ा। हाथी का नाम गंगा बताया गया जो मध्य्प्रदेश के एक गांव से महावर जगदीश प्रसाद के पास रहता था दिनभर शहर की गलियों मोहल्लो में चक्कर लगाकर जितने पैसे आते उससे गुजारा करता था।

सरकार सर्वे में ही उलझ कर रह गई और राज्यपाल राहत पहुंचा गए, बाढ़ पीडि़तों को 50 लाख देने की घोषणा

शनिवार को दशहरा मैदान के पास बरसों से रहने वाला एक हाथी दोपहर के समय सीएडी चौराहा स्थित अन्ना चौक के पास व्यस्ततम मुख्य मार्ग पर चलता-चलता गिर पड़ा। किशोरपुरा निवासी कमल ने बताया कि अचानक हाथी के गिरने से आगे पीछे चल रहे वाहन चालक सकते में आ गए। कुछ लोग वाहन छोड़कर भाग छूटे। जिस जगह पर हाथी गिरा वहां पर एक पेड के नीचे पंचर की दुकान भी है।

जैसे ही हाथी गिरा दुकान पर बैठे लोगों के साथ पंचर बना रहे फारूख भाई जान बचाकर भाग छूटे। हाथी पर बैठा महावत भी गिर पड़ा। सड़क पर गिरते ही हाथी चिंघाडने लगा। आसपास के लोग डर गए। तुरंत पुलिस व नगर निगम की टीम मौके पर पहंुची। दो जेसीबी मशीन व एक क्रेन मंगवाई गई। लेकिन वो भी विफल रही हाथी की बढ़ती तकलीफ को देखते हुए डॉ की एक टीम मोके पर पहुंची जहा उसका उपचार किया गया।

इस बीच वन विभाग की टीम को भी जिला कलकटर मुक्तनाद अग्रवाल ने फोन कर मोके पर भेजा लेकिन विभाग का फोन नहीं लगा करीब 4घंटे सड़क पर लोगो का हुजूम लगा रहा। लेकिन जिम्मेदार नहीं आये देखते ही देखते गंगा ने भी दम तोड़ दिया।

इको फ्रैंडली होगा इस बार कोटा का दशहरा, मेला पॉलीथिन कैरी बैग फ्री बनाने को लेकर राजस्थान पत्रिका की बड़ी पहल

इससे पहले हाथी को उठाने की मशक्त के दौरान गणपति बप्पा मोरिया...गूंजता रहा। बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ जमा हो गई। यह हाथी कोटा के दशहरा मैदान में छतरियों के पास रहता है। सड़क पर गिरा हाथी काफी चोटिल हो रहा था। कई जगह खून निकल रहे थे। हाथी गंगा काफी बूढा हो चुका है। संभवतः चक्कर आने की वजह से हाथी गिर पडा। ढाई घंटे से ज्यादा समय तक मार्ग प्रभावित रहा।

हाथी के महावत भजन दास ने बताया कि यह हाथी बैठ जाता था तो उठ नहीं पाता था उठता था बैठ नहीं पता था इससे पहले डॉक्टर को भी दिखाया था शनिवार को यह अचानक चलते-चलते गिर पड़ा बाद में यहां लोगों की भीड़ इकट्ठी हो गई मेन सड़क से मुख्य मार्ग से इसे क्रेन की मदद से एक और किया गया लोगों की सूचना पर वुमन हेल्पलाइन की टीम मनोज जैन आदिनाथ के साथ मौके पर पहुंची बाद में आदिनाथ में डॉक्टर अखिलेश पांडे को मौके पर बुलाया और हाथी के इलाज शुरू किया।

लगभग एक डेढ़ घंटा इलाज के बाद भी हाथी को नहीं बचाया जा सका आदित्य अनुसार आदिनाथ के अनुसार उन्होंने वन विभाग व पशुपालन विभाग समेत अन्य विभागों को सूचित किया लेकिन कोई मौके पर नहीं आया करीब 2 घंटे इलाज के बाद भी हाथी को नहीं बचाया जा सका।

लोग हाथी देख रहे थे, जेब कतरे ने जेब काटी तो लोगों ने की धुनाई
सड़क पर गिरे हाथी को देखने के लिए काफी संख्या में लोग एकत्र हो गए। इस दौरान तीन चार जेब कतरे भी अपने काम को अंजाम देने लगे। इसी बीच एक जेब कतरे को लोगों ने रंगे हाथो पकड़ लिया। धुनाई की और दादाबाडी पुलिस को सुपुर्द कर दिया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned