कोटा. आमतौर पर कहा जाता है गांव बसा नहीं बसा कि लुटेरे आ गए। दादाबाड़ी में बन रहा फ्लाईओवर देखकर तो यही लगता है। दानबाड़ी दादाबाड़ी से केशवपुरा तक निर्माणाधीन फ्लाईओवर शुरू होने से पहले ही अतिक्रमण की चपेट में आ गया है। यहां अतिक्रमियों ने अपने-अपने ठेले-गुमटियां लगाकर दुकान चलाना शुरू कर दी है। इन्हें न तो पुलिस का डर है न ही नगर निगम और यूआईटी का, जो अतिक्रमण की ओर जैसे आंखें मूंदे बैठा है। पूरे फ्लाईओवर के नीचे केशवपुरा से लेकर जवाहर नगर तक अतिक्रमी काबिज हो गए हैं।
1.5 किमी तक कब्जे
केशवपुरा चौराहे से लेकर जवाहर नगर चौराहे तक करीब डेढ़ किलोमीटर के इस फ्लाईओवर के नीचे तकरीबन हर जगह अतिक्रमी आ जमे हैं। किसी ने जगह रोकने की नीयत से गुमटियां डाल दी तो किसी ने अवसर का लाभ उठाकर धंधा शुरू भी कर लिया है। इतना ही नहीं फ्लाईओवर के दो खंभों के बीच बची थोड़ी जगह पर को भी नहीं छोड़ा इन अतिक्रमियों ने। कई ने तो इन गुमटियों को इतना आगे तक लगाया है कि सड़क ही बाधित हो गई है। फिलहाल क्षेत्र में सड़क निर्माण चल रहा है, ऐसे में एक तो संकरा रास्ता, दूसरा अतिक्रमण होने से लोग परेशान हो रहे हैं।
मिट्टी के ढेर के बीच जमाया डेरा
स्थिति यह है कि यहां फ्लाईओवर क्षेत्र में जहां सड़क व अन्य निर्माण हो रहे हैं, वहां भी कब्जा करने वाले पहुंच गए है। उन्होंने मिट्टी के ढेर के बीच भी अपना ठीया तैयार कर लिया।इससे यातायात तो बाधित होता ही है, दुर्घटना की भी आशंका बनी रहती है।
पोस्टरों से रंग दिए खंभे
एक ओर सड़क पर अतिक्रमी डेरा डाल रहे हैं, वहीं खंभों को भी पोस्टर-बैनर लगा कर बदरंग कर दिया गया है। एक भी पिल्लर ऐसा नहीं है जिस पर पोस्टर चिपके हुए न हों। निर्माण सामग्री को भी इनसे नहीं बख्शा गया।
अतिक्रमण कहीं भी नहीं होने दिए जाएंगे। दादाबाड़ी स्थित केशवपुरा रोड पर निर्माणाधीन फ्लाईओवर पर यदि किसी ने अतिक्रमण कर लिए हैं तो उन्हें हटाया जाएगा।
बीएस पालावत, सचिव, नगर विकास न्यास

[MORE_ADVERTISE1][MORE_ADVERTISE2]

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned