भाजपा पार्षद के अतिक्रमण पर चला कांग्रेस सरकार का बुलडोजर, दबंग के कब्जे से 5 साल बाद आजाद हुआ पार्क

भाजपा पार्षद के अतिक्रमण पर चला कांग्रेस सरकार का बुलडोजर, दबंग के कब्जे से 5 साल बाद आजाद हुआ पार्क

Zuber Khan | Publish: Jun, 17 2019 02:32:42 PM (IST) Kota, Kota, Rajasthan, India

पूर्व भाजपा विधायक के नजदीकी वार्ड पार्षद ने 6 साल से सरकारी पार्क पर मकान बनाकर कब्जा कर रखा था। यूआईटी ने बुलडोजर चलवाकर एक ही झटके में ध्वस्त कर दिया।

कोटा. नगर विकास न्यास के अतिक्रमणरोधी दस्ते ने सोमवार को कुन्हाड़ी क्षेत्र में स्थित कमला उद्यान पार्क को करीब छह साल बाद अतिक्रमण मुक्त कर दिया। यहां भाजपा के पार्षद राकेश पुटरा ने अतिक्रमण करके मवेशी पाल रखे थे। भाजपा सरकार के समय यह अतिक्रमण हुआ था। कोटा उत्तर के पूर्व दबंग विधायक के नजदीकी होने के कारण पिछली सरकार में न्यास प्रशासन विरोध के चलते यह कार्रवाई नहीं कर पाया।

Read More: कोटा में भाजपा पार्षद की दबंगई, करोड़ों के पार्क पर कब्जा कर बनाया मकान, अफसर भी कार्रवाई से कतराए

सरकार बदलने के बाद राजस्थान पत्रिका के गत 7 जून के अंक में 'भाजपा पार्षद का सरकारी पार्क पर अवैध कब्जा' शीर्षक से खबर प्रकाशित करके मामले को उजागर किया। खबर प्रकाशित होने के बाद न्यास प्रशासन की कुंभकरणी नींद खुली। इसके बाद कहीं जाकर न्यास सचिव की ओर से तहसीलदार ने कुन्हाड़ी पुलिस थाने में मामला दर्ज करवाया।

BIG News: ऐसा कोई 'सगा' नहीं जिसे कोटा पुलिस ने 'लूटा' नहीं, जनता के बाद अब 'राजस्थान सरकार' को भी ठगा

पुलिस ने पार्षद के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू की है। नगर निगम के वार्ड 2 कुन्हाड़ी में कमला उद्यान विस्तार में न्यास द्वारा विकसित पार्क में स्थानीय पार्षद राकेश सुमन पुटरा ने कई सालों से कब्जा जमा रखा था। पार्षद ने कब्जा कर पार्क के कुछ हिस्से में बाड़ा बनाकर उसमें गायें बांध रखी थीं। गायों के लिए भूसे का इंतजाम पार्क में ही कर रखा था। इतना ही नहीं पार्षद ने कमरा बनाकर वहां चौकीदार भी तैनात कर दिया था, जो पूरे परिवार के साथ वहां रह रहा था।

Read More: दो जिलों की सीमा पार कराने को बजरी माफिया चढ़ाते हैं पुलिस को 30 हजार का चढ़ावा, फिर कोटा में दाखिल होते 80 ट्रक

पार्षद के डर के मारे बच्चे खेलने तक नहीं जाते थे
पार्क में पार्षद के डर के मारे न तो बच्चे खेलने जाते हैं, न ही स्थानीय लोग टहलने। पार्क में लगे बोरिंग में भी अवैध तार खम्भे पर डालकर कनेक्शन ले रखा है। पार्क का बोर्ड भी न्यास की ओर से लगाया गया था, लेकिन उसे उखाड़कर कमरे की दीवार के सहारे पटक रखा है। तत्कालीन न्यास सचिव मोहनलाल यादव ने वक्त अवैध कब्जा हटाने के संबंध में नोटिस भी दिया गया था, लेकिन बाद में राजनीतिक दबाव के चलते कार्रवाई रोक दी गई थी। स्थानीय नागरिक लगातार अवैध कब्जा हटाने की मांग कर रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned