कोटा रेल मंडल: 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ा इंजन

पश्चिम मध्य रेलवे के कोटा मंडल में आरडीएसओ की टीम ने नई तकनीक के इंजन का गति परीक्षण किया। यह परीक्षण पूरी तरह सफल रहा है। यह गति परीक्षण 13 सितंबर से 25 सितंबर की अवधि में किया गया। इंजन की अधिकतम गति 150 किलोमीटर प्रति घंटे तक रही।

By: Jaggo Singh Dhaker

Published: 25 Sep 2021, 08:44 PM IST

कोटा. पश्चिम मध्य रेलवे के कोटा मंडल में शनिवार को डब्ल्यूडीपी-4 बी टाइप के रेल इंजन का गति परीक्षण ओसिलोग्राफ कोच के साथ पूरा किया गया। इसे 150 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चलाया गया। रिसर्च डिजाइन एंड स्टैंडर्ड आर्गेनाइजेशन (आरडीएसओ) लखनऊ की विशेषज्ञ टीम और कोटा मंडल के तकनीकी कर्मचारियों, पर्यवेक्षकों और रेल अधिकारियों की निगरानी में यह परीक्षण पूरा हुआ। यह गति परीक्षण 13 सितंबर से 25 सितंबर की अवधि में किया गया। इंजन की अधिकतम गति 150 किलोमीटर प्रति घंटे तक रही, जो रिसर्च डिजाइन एंड स्टैंडर्ड आर्गेनाइजेशन के मानकों के अनुरूप है। रिसर्च डिजाइन एंड स्टैंडर्ड आर्गेनाइजेशन लखनऊ के डायरेक्टर एस. सी मीणा के नेतृत्व में विशेषज्ञों की टीम इस परीक्षण कार्य में जुटी हुई थी। जिसमें कोटा मंडल के यांत्रिक विभाग, इंजीनियरिंग, परिचालन, संकेत एवं दूरसंचार, विद्युत (टीआरडी), सुरक्षा सहित अन्य सभी विभागों के रेल अधिकारी, पर्यवेक्षक, निरीक्षक सहित रेल कर्मचारियों की टीम शामिल थी। आरडीएसओ डायरेक्टर एस.सी. मीणा ने बताया कि जब कोई नया इंजन रेलवे ट्रेक पर आता है, तो उसके व्हील भी नए होते हैं और दो तीन सालों बाद वो घिस जाते हैं, इसलिए दोनों ही स्थितियों में नागदा-कोटा-सवाईमाधोपुर रेल खंड में गति परीक्षण किया है। सबसे बड़ी बात यह रही कि 2 डिग्री घुमाव वाले रेलवे ट्रेक पर भी गति परीक्षण किया है। इसकी तकनीकी रिपोर्ट बहुत जल्द ही मुख्यालय लखनऊ में सबमिट कर दी जाएगी।

Show More
Jaggo Singh Dhaker
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned