वेबिनार में दी पारिवारिक कानून की जानकारी

वेबिनार में विवाह, बच्चों की अभिरक्षा, भरण-पोषण, दत्तक से सबंधित विभिन्न कानूनी प्रावधानों की दी जानकारी

By: Mukesh

Published: 16 May 2020, 06:57 PM IST

कोटा. जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा शनिवार दोपहर साढे़ 12 बजे जिला एवं सैशन न्यायाधीश योगेन्द्र कुमार पुरोहित के मार्गदर्शन में मध्यस्थता द्वारा पारिवारिक विवादों का निस्तारण पर ऑनलाइन वेबिनार का आयोजन किया गया।

वेबिनार में न्यायाधीश पारिवारिक न्यायालय किशन चन्द गुर्जर ने बताया कि पारिवारिक विवादों का सुलह करवाकर और शीघ्र निपटारा करने की दृष्टि से फैमली एक्ट 1984 संसद द्वारा पारित किया गया था। जिसके तहत विवाह से सबंधित विवादों के निपटारे के लिए पारिवारिक न्यायालयों की स्थापना की गई। पारिवारिक न्यायालय के न्यायाधीश द्वारा विवाद का समझौते से निपटारा कराने के लिए प्रयत्न किए जाते हैं। उन्होंने मध्यस्थता के जरिए मामले के शीघ्र निपटारे पर बल दिया तथा मध्यस्थता प्रक्रिया की जानकारी देते हुए इसके बारे में बताया। उन्होंने कहा कि समझौता से मामले के निपटारे होने पर दोनों पक्षों की विजय होती है तथा मामले का शीघ्र निस्तारण होता है। वेबिनार में विवाह, बच्चों की अभिरक्षा, भरण-पोषण, दत्तक से सबंधित विभिन्न कानूनी प्रावधानों की जानकारी दी गई।

वेबिनार में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव महेन्द्र अग्रवाल ने बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के वैकल्पिक निस्तारण केन्द्र में दक्ष मध्यस्थ द्वारा पारिवारिक मामलों को समझौता से निपटाने के प्रयत्न किए जाते है। पक्षकारों द्वारा आपस में सहयोग कर एक समझौते पर पहुंचकर मामले का उचित निस्तारण शीघ्र किया जा सकता है। वेबिनार में न्यायिक अधिकारियों, अधिवक्ताओं, पीएलवी, विधि शिक्षक एवं छात्रों ने भाग लिया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned