ACB Kota News..क्यों मांगी थी शिक्षिका से 15 हजार की घूस

फ रार आरोपी वरिष्ठ लिपिक की अग्रिम जमानत खारिज

By: Ranjeet singh solanki

Published: 21 Apr 2021, 08:34 PM IST

कोटा. एसीबी कोर्ट के न्यायाधीश प्रमोद कुमार मलिक ने अध्यापिका के वेतन का फि क्सेशन व एरियर, वेतन बिल बनाने की एवज में 15 हजार रुपए रिश्वत की मांग के मामले में मुख्य फ रार मुख्य आरोपी देवलीमांझी राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के वरिष्ठ लिपिक महेंद्रसिंह चौहान की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी। प्रकरण के अनुसार 20 जुलाई 2020 को परिवादी रचना खंडेलवाल निवासी गणेशपुरा धाम बजरंग नगर कोटा ने एक प्रार्थना पत्र एसीबी के एएसपी ठाकुर चंद्रशील के समक्ष इस आशय का पेश किया था। इसमें बताया कि वह 26 दिसंबर 2014 से राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय बनियानी ब्लॉक लाडपुरा कोटा में वरिष्ठ अध्यापक के पद पर पदस्थापित है। वर्ष 2017 से उसका पूरा वेतन रुका हुआ है, फि क्सेशन 4 मार्च 2017 को होना था, जिसके पेपर भिजवाने तथा फि क्सेशन का एरियर, वेतन बिल बनवाने की एवज में वरिष्ठ लिपिक रूपनारायण 15 हजार रुपए की मांग रहा है। रूपनारायण ने कहा था कि बिल वह नहीं बनता है, अन्य कर्मचारी महेन्द्र से बनवाना है। इसलिए रुपए देने पडेंग़े। एसीबी ने शिकायत का गोपनीय सत्यापन करवाया। सत्यापन के दौरान रूपनारायण ने 2500 रुपए की घूस ले ली तथा शेष 9500 रुपए अगले दिन देने को कहा है। दूसरे दिन एसीबी ने ट्रैप करने की तैयारी की, लेकिन वह परिवादी से उस वक्त घूस नहीं ली। एसीबी ने आरोपीगण महेंद्र व रूपनारायण के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया। मामले में फ रार आरोपी महेंद्रसिंह चौहान निवासी महावीर नगर तृतीय कोटा हाल वरिष्ठ लिपिक राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय देवलीमांझी की ओर से जमानत के लिए न्यायालय में अर्जी पेश की गई थी, जिसे खारिज कर दिया।

BJP Congress
Show More
Ranjeet singh solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned