चिनगारी से डरे किसान, प्रशासन से कर डाली यह मांग..

कोई पत्थर का टुकड़ा आने पर चिनगारी निकलती है।

 

By: Rajesh Tripathi

Published: 04 Apr 2019, 11:09 PM IST

अरण्डखेड़ा. क्षेत्र के किसानों ने पुलिस प्रशासन को ज्ञापन देकर क्षेत्र में मशीन से भूसा बनाने की प्रक्रिया पर रोक लगाने की मांग की है। किसानों का कहना है कि इन दिनों खेतों में गेहंू की फ सल पूरी तरह पक कर सूख गई है। इस फसल के लिए छोटी सी चिनगारी बड़े हादसे का कारण बन सकती है। किसानों ने बताया कि बाहर से आए हार्वेस्टर मशीन वाले व कुछ स्थानीय लोग जैसे ही किसी एक खेत में कम्बाइन मशीन गेहंू की पसल की कटाई करती है तो उसके तुरन्त बाद ही भूसा बनाने वाले खेत में पहुंच जाते हैं। भूसा बनाने के दौरान मशीन में कोई पत्थर का टुकड़ा आने पर चिनगारी निकलती है। इस चिनगारी से आग लगने का अंदेशा रहता है। क्षेत्र में पिछले वर्ष ऐसी ही चिनगारी से फसल में आग लगने की घटनाएं हो चुकी हैं। इस समस्या को लेकर स्थानीय किसानों ने भूसा बनाने की मशीन पर एक सप्ताह के लिए प्रतिबंध लगाने की मांग को लेकर पुलिस प्रशासन को ज्ञापन दिया है।

दमकल की मांग, सौंपा ज्ञापन

सुल्तानपुर. क्षेत्र में आग की घटनाओं पर तुरंत राहत पहुंचाने के लिए पंचायत समिति मुख्यालय पर स्थायी दमकल खड़ी करवाने की मांग को लेकर गुरुवार को पूर्व पीसीसी सदस्य नसरू खान के नेतृत्व में क्षेत्रवासियो ने विकास अधिकारी जगदीश प्रसाद मीणा को एसडीएम के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि हर वर्ष दमकल की कमी के चलते काफी नुकसान उठाना पड़ता है।


एचटी लाइन के तार टकराए, खेत में आग

केबलनगर. डोळ्या पंचायत क्षेत्र के किशनपुरा गांव में खेतों में से गुजर रही 11 केवी लाइन के तार आपस में टच होने से एक किसान खेत में आग लग गई। खेत में कट कर पड़े लगभग 50 गावे जलकर राख हो गए। खेत में ज्यों ही लपटें उठती दिखी तो ग्रामीण दौड़े तथा आग को बुझाया। पीडि़त किसान मांगीलाल गरासिया ने बताया कि किशनपुरा के माल में उसका तीन-चार बीघा का खेत है। गेहूं कटाई का कार्य चल रहा था इसी दौरान तेज हवा चलने से खेत से गुजर रही 11 केवी की लाइन के तार टच हो गए। चिंगारी गिरने से खेत में पड़े गावे में आग लग गई। इससे लगभग 50 गावे जलकर राख हो गए। अचानक धुआं उठता देखा तो आसपास के खेतों में कटाई कर रहे किसान दौड़ पड़े तथा आग पर काबू पा लिया। उसने बताया कि खेत में गेहूं की फसल तैयार खड़ी हुई थी। गनीमत रही कि आग खड़ी फसल तक नहीं पहुंची अन्यथा पूरा खेत जलकर राख हो जाता।

Rajesh Tripathi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned