चिनगारी, आग और 5 मिनट में फसल जलकर खाक..

नौलाइयों का भूसा बनाने की मशीन से उठी चिंगारी, थ्रेसर भी आग की चपेट में आया

 

By: Rajesh Tripathi

Updated: 10 Apr 2019, 11:18 PM IST

मोईकलां. क्षेत्र के बूढऩहेड़ा-किशनपुरा गांव के माळ में बुधवार को एकत्रित किए गेहूं की फसल के गल्ले में आग लग गई। करीब पांच बीघा से अधिक गेहूं की फसल जलकर पूरी तरह से राख हो गई। गेहूं के गल्ले के पास खड़ा थे्रसर भी आग की चपेट में आ गया।

रिश्तेदार संग ही लगाया दिल, नहीं सह
पाए समाज का दबाव तो दे दी जान...

जानकारी के अनुसार किसान रामगोपाल गुर्जर निवासी किशनपुरा ने बुधवार को गेहूं की फसल को निकलवाने की पूरी तैयारी कर ली थी। किसान टै्रक्टर की सहायता से थे्रसर को गेहूं के गल्ले के पास छोड़कर ट्रॉली लेने घर गया था। इसी बीच गेहूं की नौलाइयों का भूसा बनाने में लगी मशीन से उठी चिंगारी से गेहूं के गल्ले में आग लग गई। किसान कुछ कर पाता इससे पहले ही पूरी फसल जलकर राख हो गई। हालांकी सूचना मिलने के बाद दमकल मौके पर पहुंची पर उससे पहले ही फसल राख बन चुकी थी।

मंडी में अव्यवस्थाएं हावी, तप रहे किसान

सुल्तानपुर. कस्बे में गौण मंडी यार्ड में समर्थन मूल्य खरीद केन्द्र पर मंंडी प्रशासन की अनदेखी के चलते किसानों को परेशानी उठानी पड़ रही है। यहां पर एक ही यार्ड में सरसों ,चना व गेंहू की समर्थन मूल्य पर खरीद की जा रही है। सरसों व चना खरीद केन्द्र पर खरीदे गए कुल 10 हजार 523 कट्टा ङ्क्षजस में से 6 हजार 623 कट्टों का उठाव नहीं होने से व्यवस्थाएं चरमराई हुई है। तपती धूप में किसान जिंस तुलवा रहा है। एफसीआई व सहकारी समिति द्वारा कई बार मंडी प्रशासन को समस्या से अवगत कराने के बाद भी ध्यान नहीं दिया जा रहा।

तहसीलदार को बताई समस्याएं

कार्यवाहक तहसीलदार सत्यनारायण गुप्ता ने बुधवार को खरीद केन्द्र का निरीक्षण किया। इसी दौरान रीछाहेड़ी गांव निवासी किसान चन्दप्रकाश नागर व प्रधान भूपेन्द्र सिंह हाड़ा ने खरीद केन्द्र की अव्यवस्थाओं की शिकायत की। बताया कि दोनों ही खरीद केन्द्र पर न शीतल पानी मिल रहा न ही छाया की कोई व्यवस्था है। सरसों व चना खरीद केन्द्र के टीनशेड के नीचे माल भरा है। किसान व हम्माल धूप में तपने को मजबूर हैं। गुप्ता ने मौके पर ही मंडी प्रशासन को किसानों को सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए निर्देशित किया। देरी से शुरू हुई चना व सरसों की खरीदबुधवार को सरसों व चना की खरीद कृषि पर्यवेक्षक के देरी से आने के चलते दोपहर बाद शुरू हो सकी। इससे सुबह आए किसान खासा नाराज दिखे। किसानों ने सहकारी समिति कार्मिकों के समक्ष नाराजगी भी जताई। खरीद केन्द्र प्रभारी महेश शर्मा ने बताया कि जिला विस्तार अधिकारी सीएडी द्वारा यहां कार्यरत कृषि पर्यवेक्षक सीपी मीणा की ड्यूटी पूरे समय से हटाकर दोपहर बाद कर दी गई है। उनके देरी से आने से खरीद कार्य प्रभावित हुआ।

Rajesh Tripathi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned