scriptFirst PKC link canal project entangled in politics, now ERCP | पहले पीकेसी लिंक नहर परियोजना सियासत में उलझी, अब ईआरसीपी | Patrika News

पहले पीकेसी लिंक नहर परियोजना सियासत में उलझी, अब ईआरसीपी

पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) को लेकर केन्द्र सरकार और राज्य सरकार के बीच सियासत जारी है। इस योजना से पहले हाड़ौती की पार्वती-कालीसिंध-चंबल (पीकेसी) लिंक नहर परियोजना भी सियासी उलझनों की भेंट चढ़ गई थी, जिसका करीब एक दशक बाद अभी तक क्रियान्वयन नहीं हो सका है।

 

 

कोटा

Published: July 31, 2022 01:17:54 am

कोटा. पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) को लेकर केन्द्र सरकार और राज्य सरकार के बीच सियासत जारी है। इस योजना से पहले हाड़ौती की पार्वती-कालीसिंध-चंबल (पीकेसी) लिंक नहर परियोजना भी सियासी उलझनों की भेंट चढ़ गई थी, जिसका करीब एक दशक बाद अभी तक क्रियान्वयन नहीं हो सका है। पीकेसी लिंक नहर परियोजना जलशक्ति मंत्रालय की ओर से तैयार की गई राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य योजना के तहत चिह्नित की गई 30 लिंक परियोजनाओं में से एक थी। पीकेसी लिंक परियोजना राजस्थान और मध्यप्रदेश दो राज्यों से जुड़ी थी। यह योजना मध्यप्रदेश और राजस्थान राज्यों के बीच जल बंटवारे पर आम सहमति नहीं होने के कारण अटक गई। इसका क्रियान्वयन नहीं किया जा सका। अब राजस्थान सरकार ने चंबल बेसिन के कुछ उप बेसिनों के कैचमेंट और कालीसिंध और पार्वती के जलग्रहण क्षेत्र में उपलब्ध अधिशेष जल का उपयोग करने के लिए पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना तैयार की है, लेकिन इसे राष्ट्रीय महत्व की योजना का दर्जा नहीं मिल पाया है।
ercp_1.jpg
राज्य सरकार ने इस तरह बनाई योजनाराजस्थान सरकार ने 50 प्रतिशत निर्भरता पर उपलब्ध लगभग 3500 एमसीएम पानी का उपयोग करने की योजना बनाई है। इससे पूर्वी राजस्थान के 13 जिलों में पेयजल आवश्यकता को पूरा करने के साथ 2 लाख हैक्टेयर भूमि के नए कमांड क्षेत्रों को सिंचाई प्रदान करने और मौजूदा कमांड एरिया में लगभग 0.80 लाख हैक्टेयर के िस्थरीकरण का प्रस्ताव दिया है।जल आयोग की शर्त, मध्यप्रदेश से लें एनओसीपानी के डायर्वजन में अंतरराज्यीय नदियां शामिल हैं। केन्द्रीय जल आयोग ने सितम्बर 2018 में राजस्थान से अनुरोध किया था कि या तोे पानी की उपलब्धता के लिए 50 प्रतिशत निर्भरता से 75 प्रतिशत निर्भरता के लिए ईआरसीपी की योजना पर फिर से विचार करें। ऐसा नहीं हो तो मध्यप्रदेश से अनापत्ति प्रमाण पत्र प्राप्त करें। मध्यप्रदेश सरकार ने 75 प्रतिशत निर्भरता पर ईआरसीपी के सभी घटकों की योजना बनानेे पर जोर दिया है।
प्रस्ताव में संशोधन होने पर ही विचार करेगा केन्द्र

चंबल नदी के जल का बेहतर उपयोग करने की दृष्टि से नदियों को आपस में जोड़ने का निर्णय लिया गया था। इसमें दोनों राज्यों के बीच कुनो और पार्वती की उप घाटियों में लगभग 131 एमसीएम पानी के आदान-प्रदान का प्रस्ताव था। कालीसिंध उप बेसिन में भी इसी तरह का आदान-प्रदान संभावित है। पीकेसी लिंक के साथ ईआरसीपी के एकीकरण के मुद्दे पर दोनों राज्यों के साथ विचार विमर्श हो चुका है। एकीकरण के मुद्दों का अभी हल किया जाना बाकी है। विशेष रूप से अंतरराज्यीय नदियों में पानी डायवर्जन के लिए निर्भरता मापदंड के संबंध में राजस्थान सरकार ने ईआरसीपी के लिए 50 प्रतिशत निर्भरता पर योजना बनाई है। केन्द्र के अनुसार यह 75 प्रतिशत होना चाहिए। नदियों को आपस में जोड़ने पर कार्य बल ने गत 17 मई 2022 को हुई बैठक में पहले चरण के तहत संशोधित प्रस्ताव पर योजना को आगे बढ़ाने की सिफारिश की है।----
मध्यप्रदेश की आपत्ति निराधार

राजस्थान के जल संसाधन मंत्री महेन्द्रजीत मालवीया का कहना है कि परियोजना राज्य के 13 जिलों के लिए महत्वपूर्ण है। राज्य सरकार इसकी क्रियान्विति के लिए गंभीरता से कार्य कर रही है। इसे गति देने के लिए 86 अधिकारियों की नियुक्ति भी की जा चुकी है। मध्यप्रदेश सरकार की ओर से जताई जा रही आपत्ति निराधार है, उनसे एनओसी प्राप्त करने की भी कोई आवश्यकता नहीं है।--
केन्द्रीय जल शक्ति विभाग का यह तर्कमध्यप्रदेश और राजस्थान के बीच ईआरसीपी के संबंध में अंतरराज्यीय मुद्दों के सौहार्दपूर्ण समाधान के अभाव में केंद्रीय जल आयोग की ओर से परियोजना का आकलन नहीं किया गया है। किसी योजना को वित्त पोषण के लिए शामिल किए जाने के लिए उसका केंद्रीय जल आयोग की ओर से आकलन किया जाना महत्वपूर्ण मापदंड है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

CBI Raids Manish Sisodia House Live Updates: बीजेपी नेता प्रवेश वर्मा का बड़ा बयान, बोले- अब अरविंद केजरीवाल भी जाएंगे जेलबंगाल, महाराष्ट्र में भी ED के छापे, उनके सामने तो मैं तिनका हूँ, 'सांसद अफजाल अंसारी ने दी चुनौती- पूर्वांचल हमारा ही रहेगा'CBI Raid: दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया के घर पहुंची CBI की टीम, 20 ठिकानों पर चल रही छापेमारीJanmashtami 2022: मुंबई और ठाणे में इन जगहों पर लगी है सबसे उंची दही हांडी, 10 थर लगाने पर 21 लाख का इनामबिलकिस बानो केसः 6000 से अधिक सामाजिक कार्यकर्ताओं ने सुप्रीम कोर्ट से दोषियों की रिहाई को रद्द करने की मांग कीDahi Handi Festival: मुंबई में दो साल बाद कृष्ण जन्माष्टमी की धूम, शहर के कई इलाकों में फोड़ी जाएगी दही हांडीमथुरा, वृंदावन समेत कई जगहों पर आज है जन्माष्टमी की धूम, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और विधिक्यों मनीष सिसोदिया के घर पर CBI कर रही छापेमारी? जानिए क्या है पूरा मामला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.