जहर के खून में मिल जाने के बाद अाता है, खाद्य विभाग का नतीजा

ritu shrivastav

Publish: Oct, 12 2017 04:46:52 (IST)

Kota, Rajasthan, India
जहर के खून में मिल जाने के बाद अाता है, खाद्य विभाग का नतीजा

रिपोर्ट आने से पहले ही लोगों के पेट में चली जाती है मिलावटी मिठाइयां। त्योहार निकलने के बाद आती है खाद्य विभाग की रिपोर्ट।

खाद्य विभाग भले ही त्योहारी सीजन में मिलावट के कारोबार पर नकेल कसने की तैयारी कर रहा हो, लेकिन लोगों को इसका ज्यादा लाभ मिलने वाला नहीं है। त्योहार शुरू होने पर विभाग ने खाद्य पदार्थो के सैंपल लेना शुरु कर दिया है। इन सैंपल की जांच रिपोर्ट आने तक त्योहार गुजर चुका होगा। और लोग भारी मात्रा में मिठाई गटक चुके होंगे।

Read More: OMG:वसूलीखोरों का ऐसा दबदबा, रकम नहीं दी तो कागजात ही छीन लेते है

मिलावटी माल खरीदने से बच नहीं पाते

जी, हां, त्योहार के दौरान लोग भारी मात्रा में मिठाई खरीदते हैं, इसमें मिलावटी भी शामिल होती है, लेकिन परख करने वाले विभाग की सैंपल रिपोर्ट ही त्योहार के बाद आएगी। ऐसे में कारोबारी के विरुद्ध जरुर कार्रवाई हो जाती है, लेकिन लोग न तो मिलावटी माल खरीदने से बच पाते और न ही खाने से। सीजन में जांच के लिए खाद्य विभाग के पास मोबाइल लैब होनी चाहिए, ताकि मौके पर ही मिलावट का गौरखधंधा पकड़ा जा सके, लेकिन जिले में ऐसा अभी कुछ नहीं हो रहा है।

Read More: सरकार की अनदेखी से वैभव पर छाई कालिख

बेखौफ बेचते हैं मिलावटी माल

नियमों के तहत जिस माल का सैंपल भरा जाता है, उसे सील कर दिया जाता है, ताकि बिकवाली न हो। उधर, करोबारी दूसरा माल बना लेता है। दूसरे माल में भी मिलावट न हो इसकी गारंटी किसी के पास नहीं। किसी दुकान पर सैंपल भरने के बाद आमतौर पर खाद्य विभाग की टीम वापस नहीं जाती है। इससे पूरा सीजन में कारोबारी बेखौफ होकर मिलावटी माल बेचते हैं। त्योहारी सीजन में भारी मांग होने के कारण सभी की मिठाई खफ जाती है। इसी का फायदा उठाकर व्यापारी सेहत का ध्यान रखे बिना दूषित मावे की मिठाइयां भी लोगों को खिला देते हैं। इधर विभाग खाना पूर्तिकर जांच की इतिश्री कर लेता है।

Read More: खुशखबरी! छह महीने बाद दूर नजर आएगी पानी की समस्या

यह है प्रावधान

15 दिन में जांच रिपोर्ट दिए जाने का प्रावधान है। त्योहारी सीजन में ज्यादा सैंपल लिए जाते हैं, इससे जांच की समय अवधि भी बढ़ जाती है। वहीं झालावाड़ में जांच लैब नहीं होने से सैंपल को कोटाजयपुर भेजा जाता है। इससे जांच में और ज्यादा समय लगता है। नजीता लोगों की सेहत के साथ खिलवाड़ होता है। ऐसे में बिना संसाधन के विभाग द्वारा लोगों की सेहत खराब नहीं होने का दावा करना बेमानी साबित हो रहा है।

Read More: ये क्या हो रहा है! कहने को शहर....रहने को गांव

मोबाइल वेन कई दिनों से बंद

झालावाड़ सीएमएचओ डॉ.साजिद खान ने कहा कि सैंपल की जांच कोटा होती है। दो दिन के लिए एक आदमी जयपुर से लगाया गया है। मोबाइल वेन कई दिनों से बंद है। मिठाई में फंगस आने या संग्दिध लगने पर मौके पर ही नष्ट करवाते हैं। शेष तो जांच आने के बाद भी पता ही चलता है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned