गर्भवती महिला को घसीटने के मामले में थानेदार समेत चार लाइन हाजिर

पुलिस के आला अफसरों के सारे किए धरे पर नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने पानी फेरा

By: Suraksha Rajora

Updated: 27 Nov 2019, 04:39 PM IST

कोटा. कुन्हाड़ी में गर्भवती को घसीटकर थाने ले जाने वाले पुलिसकर्मियों को बचाने का पुलिस के अधिकारी देर रात तक जतन करते रहे, लेकिन पुलिस के आला अफसरों के सारे किए धरे पर नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने पानी फेर दिया। धारीवाल ने मंगलवार देर रात मामले को गंभीर मानते हुए शहर पुलिस अधीक्षक दीपक भार्गव को मामले में जिम्मेदार पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर करने को कहा।

इसके बाद शहर पुलिस अधीक्षक ने एक उपनिरीक्षक समेत चार पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया। राजस्थान पत्रिका ने मंगलवार को समाचार प्रकाशित किया था। इसमें बताया गया था कि कुन्हाड़ी थाना इलाके में पुलिसकर्मी रात को एक हॉस्टल में पहुंचे और महिला को घसीट कर थाने ले गए। मामले में पत्रिका ने महिला को घसीटते हुए फोटो भी प्रकाशित किए थे।

पुलिस का खौफनाक चेहरा, गोद से बच्चा झपटा, गर्भवती महिला को घसीटकर थाने लाए,की मारपीट,उड़ाई कानून की धज्जियां

आरोपी पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर करने में अहम साक्ष्य भी पत्रिका डॉटकॉम द्वारा उपलब्ध कराए गए सीसीटीवी फुटेज ही रहे। पुलिस के अधिकारियों ने इस मामले में सुबह से ही अपने 'बहादुरोंÓ को अभयदान दे दिया था, लेकिन रात को हाड़ौती विकास मोर्चा के संभागीय अध्यक्ष राजेन्द्र सांखला ने नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने इस मामले में बात की और हस्तक्षेप का आग्रह किया।

इसके बाद पुलिस हरकत में आई। इलाके के उपाधीक्षक भगवत सिंह हिंगड ने जरूर अपने स्तर पर पत्रिका डॉट कॉम पर जारी फुटेज से पड़ताल शुरू कर दी थी। पुलिस अधीक्षक ने उप निरीक्षक मोहनलाल, कांस्टेबल भरतराज, महिला कांस्टेबल गीता व शारदा को मामले की जांच पूरी होने तक लाइन हाजिर कर दिया।

Show More
Suraksha Rajora
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned