पुलिस ने दबोचा तो खुला बड़ा राज,फर्जी दस्तावेज तैयार करने की फैक्ट्री पकड़ी, तीन-चार हजार में सेना व केन्द्र सरकार के फर्जी दस्तावेज

fake degrees डिमांड पर तैयार कर देते थे हर तरह के कागजात, कम्प्यूटर सेन्टर की आड़ में चला रखा था गौरखधंधा, लेपटॉप, रबड़ मोहरें, डायरियां, पहचान पत्र समेत दस्तावेज बरामद

Suraksha Rajora

November, 2710:14 PM

कोटा. एटीएस कोटा, कोटा व हिण्डौन पुलिस ने बुधवार को सेना व सरकार के फर्जी दस्तावेज बनाने के मामले में हिण्डौन सिटी से दो आरोपियों को गिरफ्तार कर उनसे फर्जी मोहरें, दस्तावेज, पहचान पत्र, कम्प्यूटर व लेपटॉप बरामद किया। आरोपी महज तीन से चार हजार रुपए में सेना, केन्द्र सरकार की योजनाओं से लेकर फर्जी डिग्रियों तक बना डालते थे।

पुलिस अधीक्षक करौली अनिल बेनीवाल ने बताया कि कुछ समय से करौली जिले के हिण्डौनसिटी कस्बे में व आस पास के गांवों में कुछ व्यक्तियों द्वारा संगठित गिरोह चलाकर भारतीय सेना के गोपनीय दस्तावेजों को फर्जी से तैयार करने व फर्जी आधार कार्ड, भामाशाह कार्ड, विभिन्न विश्वविद्यालयों एवं बोर्ड की मार्क शीटों, प्रमाणपत्रों में हेराफेरी कर फर्जी दस्तावेज तैयार करने की भी सूचना मिली।

मामले को गंभीरता को देखते हुए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक पुलिस एटीएस एंड एसओजी राठौर विनीत कुमार ने एक विशेष टीम का गठन किया। गठित टीम के प्रभारी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एटीएस कोटा हिम्मतसिंह व उनकी टीम व मिलेट्री इन्टेलीजेंस के सहयोग से थाना हिण्डौनसिटी थानाधिकारी प्रभाती लाल व उनकी टीम ने बुधवार को संयुक्त कार्रवाई की।

जिसमें गैंग के दो सदस्यों हिण्डौनसिटी में नई मंडी के चामुंडा कॉम्पलेक्स स्थित शांतिनाथ कम्प्यूटर सेन्टर से आरोपी शैलेष जैन, उसके साथी सहीराम गुर्जर को गिरफ्तार किया। गैंग के दोनों सदस्य कम्प्यूटर की आड़ में भारतीय सेना, शैक्षणिक संस्थान तथा सरकार द्वारा संचालित सभी योजनाओं से संबंधित फर्जी कूटरचित कार्ड बनाने का गौरखधंधा काफी दिनों से कर रहे थे।

आरोपियों के कब्जे से फर्जी दस्तावेज बनाने में काम आने वाले कम्प्यूटर, लेपटॉप, फर्जी रबड़ की मोहरें, तैयारशुदा कूटरचित आर्मी के पहचान पत्र, पेंशन डायरियां, अंकतालिका तथा अनय अपकरण व खाली प्रोफार्मा बड़ी संख्या में जप्त किए गए। आरोपियों के खिलाफ नियमानुसार प्रकरण पंजीबद्ध किया जाकर इस संबंध में गहनता से अनुसंधान किया जा रहा है।

प्रारंभिक अनुसंधवान के आधार पर गिरफ्तार शुदा आरोपियों शैलेष व सहीराम द्वारा ग्राहकों की सुविधा के अनुसार सभी प्रकार के फर्जी दस्तावेज तैयार करने और एक दस्तावेज से तीन-चार हजार रुपए तक ग्राहकों से लेना व आपस में बांटना सामने आया है। पुलिस व सेना के अधिकारी मामले में जांच में जुटे है।

सादी वर्दी में पहुंची टीम, समझते उससे पहले धर दबोचा -
मामले की कार्रवाई के लिए विशेष टीम में एटीएस के एएसपी हिम्मतसिंह, हेड कांस्टेबल प्रहलाद नारायण, जितेन्द्र शर्मा, कमल सिंह, कांस्टेबल बनवारी लाल, मुकेश कुमार, सूर्यप्रकाश सादी वर्दी में हिण्डौनसिटी पहुंचे और हिण्डौन थानाधिकारी प्रभातीलाल से संपर्क किया। संपर्क के बाद बेहद सावधानी रखते हुए गुप्त तरीके से पुलिस व एटीएस मौके पर पहुंची और दोनों को गिरफ्तार कर आपत्तिजनक वस्तुएं बरामद कर ली। मामले में अन्य आरोपियों के साथ फर्जी दस्तावेज बनवाने वालों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

Show More
Suraksha Rajora Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned