महापौर के अप्रत्यक्ष चुनाव ने दिग्गज नेताओं के सपनों पर फेरा पानी, इन्होंने चुनाव लडऩे से किया किनारा

100 पार्षदों में से बनेगा कोटा का नया महापौर

 

 

कोटा। राज्य सरकार ने नगर निगम में महापौर के प्रत्यक्ष चुनाव से यू टर्न लेने से शहर के कई दिग्गज नेता जो महापौर का चुनाव लडऩे का सपना देख रहे थे, उनके सपनों पर पानी फेर दिया है। भाजपा और कांग्रेस में महापौर के प्रत्यक्ष चुनाव में कई नेता दावेदार माने जा रहे थे, लेकिन अब अप्रत्यक्ष होने से दिग्गज नेताओं ने अपने आपको चुनाव से दूर कर लिया है। अब चुनाव मैदान में वही नेता उतरेंगे जिनकी वार्ड में अच्छी पकड़ है और जनता से सीधे जुड़ाव है। निगम में इस बार 100 वार्ड है। सौ पार्षदों में से ही मेयर बनेगा।
राज्य सरकार की ओर से सोमवार को निकायों में महापौर व सभापति के चुनाव अप्रत्यक्ष कराने की घोषणा कर दी है। इसके साथ ही राजनीतिक गतिविधियां तेज हो गई है। नेता देख रहे है कि किस वार्ड में उनकी जमीनी स्थिति मजबूत होगी। दिनभर इस पर ही माथापच्ची चलती रही। दोनों ही दलों ने चुनाव की प्रारम्भिक तैयारियां शुरू कर दी है।

आह जिंदगी वाह जिंदगी...ये पापी पेट भी तो भला क्या
क्या खेल करवाता है,देखिये वीडियो...

महापौर की लॉटरी पर नजर

अब नेताओं की नजर महापौर पद की लॉटरी पर है। महापौर पद के लिए जातिगत आधार पर लॉटरी जयपुर में शीघ्र निकाली जानी है। निगम में पिछले दो बोर्ड से लगातार महापौर का पद सामान्य वर्ग के लिए आ रहा है। मौजूदा समय में महापौर का पद सामान्य पुरुष वर्ग का था। भाजपा के महेश विजय महापौर है। पिछले चुनाव में सामान्य महिला वर्ग के लिए सीट थी। इसमें प्रत्यक्ष चुनाव में कांग्रेस की डा. रत्ना जैन महापौर निर्वाचित हुई थी।


भाजपा व कांग्रेस में दक्षिण से है वरिष्ठ नेता कतार में
भाजपा व कांग्रेस में कोटा दक्षिण विधानसभा क्षेत्र से कई वरिष्ठ नेता चुनाव लडऩे की कतार में है। पहले तो प्रत्यक्ष चुनाव के हिसाब से गोटियां जमा रहे थे, लेकिन अब अप्रत्यक्ष चुनाव के कारण पार्षद के लिए जमीन तलाश रहे हैं। कांग्रेस के मुकाबले भाजपा में दक्षिण विधानसभा में ज्यादा दावेदार सामने आ रहे हैं।

आमने-सामने

महापौर के अप्रत्यक्ष चुनाव में भी निगम में पूर्ण बहुमत से कांग्रेस का ही बोर्ड बनना है। भाजपा के निगम में पांच साल के बोर्ड के कुप्रबंधन से जनता परेशान हो गई है। महापौर पर भाजपा के ही पार्षद पिछले पांच साल लगातार आरोप लगाते रहे। शहर गंदा पड़ा है। दशहरा मेले का सत्यानाश कर दिया है। रावण का पुतले को भी अधजला कर दिया है। जनता अब भाजपा के बहकावे में नहीं आने वाली है।

मेले में दोपहर 2 से रात 12 बजे तक निशुल्क
मिलेंगे कपड़े के थैले

रविन्द्र त्यागी शहर अध्यक्ष कांग्रेस


कांग्रेस सरकार ने यू टर्न लेकर मानसिक रूप से पहले ही हार स्वीकार ली है। लोकसभा में करारी हार के बाद कांग्रेस जनता के बीच में जाने से ही डर रही है। देश और प्रदेश में भाजपा का माहौल है। निगम चुनाव पूर्ण बहुमत से जीतेंगे और महापौर भी भाजपा का ही बनेगा। निगम बोर्ड के विकास कार्यों के आधार पर चुनाव लड़ेंगे। दशहरा मैदान को नए स्वरूप में हमारे ही बोर्ड ने तैयार किया है। डोर टू डोर कचरा संग्रहण की व्यवस्था लागू की गई है।
हेमंत विजयवर्गीय शहर अध्यक्ष भाजपा


क्या पार्षद का चुनाव लडेंगे
कांग्रेस

नो कमेंन्ट्स : रविन्द्र त्यागी शहर अध्यक्ष कांग्रेस
पार्टी का आदेश सर्वोपरि : अनिल सुवालका प्रतिपक्ष नेता

चुनाव नहीं लडूंगी : राखी गौतम शहर उपाध्यक्ष कांग्रेस


भाजपा
मैं तो चुनाव नहीं लडूंगा : हेमंत विजयवर्गीय शहर अध्यक्ष भाजपा

चुनाव लडऩे का फिलहाल विचार नहीं है: महेश विजय, महापौर
पार्टी का जो आदेश होगा वह मानेंगे : सुनीता व्यास उप महापौर


पिछले बोर्ड की स्थिति

65कुल वार्ड

52भाजपा पार्षद

6कांग्रेस पार्षद

6निर्दलीय पार्षद
(निर्दलीयों में चार भाजपा में, एक कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। एक आप पार्टी से है )

Show More
Rajesh Tripathi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned