कोटा में पहली हाफ मैराथन 25 को, सवा तीन घंटे में करनी होगी पूरी

वॉक-ओ-रन को लेकर उत्साह, रूट चार्ट जारी, आधुनिकतम तकनीक मायलैप्स से जाचेंगे टाइमिंग

By:

Published: 10 Feb 2018, 07:00 AM IST

कोटा . दिल की सेहत के प्रति जागरूकता लाने के लिए 25 फरवरी को होने वाली हार्टवाइज 'वॉक-ओ-रन 2018' को लेकर प्रतिभागियों में उत्साह बढ़ता जा रहा है। शहर में पहली बार 21 किमी की हाफ मैराथन के साथ 10 किमी की दौड़ और 6 किमी की ड्रीम रन भी होगी। इसमें देश-विदेश के मैराथन धावक शामिल होने जा रहे हैं। हाफ मैराथन को पूरा करने के लिए अधिकतम सवा तीन घंटे का समय दिया जाएगा। संयोजक डॉ. साकेत गोयल ने शुक्रवार को पत्रकारों को बताया कि अन्तरराष्ट्रीय धावकों की भागीदारी को देखते हुए उनकी अलग कैटेगिरी बनाई गई है। अन्तरराष्ट्रीय स्तर के इस इवेंट में पिछले साल भी विदेशी धावकों ने भाग लिया था। इस अवसर पर हार्टवाइज टीम के डॉ. अनीश खण्डेलवाल, तरूमीतसिंह बेदी, कमलदीप सिंह, सतीश शर्मा, डॉ. सुरभि गोयल, वीनेश गुप्ता, निखिल जैन, राहुल सेठी, रजत अजमेरा और आशीष अरोड़ा भी मौजूद रहे। इस मौके पर रूट चार्ट का प्रारूप जारी किया गया।

Read More: कोटा ने रचा इतिहास, अभी तक के सबसे बड़े क्विज इवेंट में शामिल हुए 50 हजार विद्यार्थी, सुलझाए सेहत के सवाल

यहां से आए आवेदन
हाफ मैराथन के लिए अहमदाबाद, अजमेर , बूंदी, ग्वालियर, जयपुर , जैसलमेर , मथुरा, पाली, रामगंजमंडी, शिवपुरी, अल्मोड़ा, भुवनेश्वर, फरीदाबाद, झालावाड़, झांसी, खानपुर, शोलापुर, इंदौर, अन्जा, भोपाल, सीकर, उदयपुर , शिलोंग से आवेदन आए हैं।


Read More: राज्य स्तरीय ताइक्वांडो चैम्पियनशिप: बालक वर्ग में कोटा का दबदबा

10 वाटर व 5 एनर्जी पॉइंट
हाफ मैराथन और 10 किमी दौड़ की शुरुआत शहीद पार्क से होगी। यहां से अंटाघर सर्किल, बारां रोड, एसपी ऑफि स, माला रोड, क्लॉक टावर, हाट रोड, यू-टर्न माला रोड, आर्मी स्कूल, इनर माला रोड, गो कार्टिंग, सूचना केन्द्र, राजकीय कॉलेज होते शहीद उद्यान पर समापन होगा। 21 किमी हाफ मैराथन के लिए इस मार्ग के दो चक्कर लगाए जाएंगे। इस रास्ते में 10 जगह वाटर व 5 जगह एनर्जी पॉइंट होंगे।


Read More: अब छात्र नहीं रहेंगे किसी के भरोसे, वीएमओयू में खर्च हो रहें है 6.53 करोड़

दौड़ के आकलन में न्यूनतम एरर होगी
दौड़ में जूतों में टाइमिंग चिप लगाई जा रही है। माइलैप्स तकनीक का प्रयोग भारत में पहली बार किया जा रहा है। इस तकनीक के तहत जूतों में चिप लगाई जाएगी। जूते टाइमिंग चिप के सबसे नजदीक होते हैं तो दौड़ का आकलन सटीक हो सकेगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned