हैंडमेड डे :लॉक डाउन में महिलाएं बदल रही घर की तस्वीर और तकदीर

Handmade day यूथ में बढ़ा हैंड मेड प्रोडक्ट का क्रेज

By: Suraksha Rajora

Published: 04 Apr 2020, 01:15 AM IST

@ सुरक्षा राजोरा

कोटा. अब महिलाएं किसी भी काम में पीछे नहीं सरकारी नौकरी से लेकर निजी कंपनियों तक महिलाओं का बोलबाला है। शिक्षित महिलाएं नहीं ही अशिक्षित महिलाएं भी घर में ही रहकर समाज के आर्थिक विकास में मददगार बन रही है। ना सिर्फ वह खुद आत्मनिर्भर बन रही है,बल्कि परिवारिक जिम्मेदारियों को बखुभी निभाते हुए पुरुषों के साथ कदम से कदम मिला रही है। कई परिवार ऐसे हैं जिनकी जिम्मेदारियों में महिलाएं भी खासी भूमिका है। ऐसी महिलाओं का हौसला बढ़ाने के लिए हर वर्ष अप्रैल माह के पहले शनिवार को हैंडमेड डे मनाया जाता है ।

खासतौर पर जब इन दिनों कोरोनावायरस के संक्रमण के चलते लॉकडाउन चल रहा है इन हालातों में घर में काम करके इन महिलाओं का हूनर परिवार को संबल देने में खासी भूमिका अदा कर रहा है।


पिछले 3 सालों से सवयं सहायता समूह से जुड़ी सुचिता जैन लॉक डाउन के चलते घर पर ही हस्त निर्मित उत्पाद तैयार करने में लगी है पेपर मशिंग हुनर में पहचान कायम करने वाली सुचिता पिछले 10 सालों से इस क्रिएटिव काम को करने में लगी है और अपने हुनर से कई महिलाएं बालिकाओं को प्रशिक्षण के साथ रोजगार भी मुहैया करवा रही है वेस्ट मैटेरियल से तैयार करने वाली कई क्रिएटिव उत्पाद बनाने के साथ पर्स, कुशन कवर, मसाला उत्पाद भी तैयार करती है।

वह बताती है कि आज के दौर में घर में बनी हुई चीजों को काफी पसंद किया जाता है, इन चीजों की डिमांड ना केवल शहर में है बल्कि बाहर भी लोग इन्हें पसंद करते हैं इससे महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने में काफी मदद मिली कई परिवार ऐसे हैं जिन का खर्चा घर में महिला के द्वारा किए जा रहे हैं पदों से चल रहा है सरकार भी इन्हें काफी प्रोत्साहन दे रही है। सामाजिक विकास प्रबंधक डॉ. हेमलता गांधी वे कहती है कि लॉक डाउन में एेसी महिलाओं को प्रमोट किया जा रहा है। महिलाएं हस्तनिर्मित डेकोरेटिव आइटम बनाकर इसे इनकम का साधन भी बना रही है।

लॉकडाउन में घर मे बनाई जा रही कई हैंडमेड चीजे
लॉकडाउन में कई बच्चे और युवा घर पर अपनी प्रतिभाओं को हैंड मेड चीजे बनाकर निखार रहें है। इन दिनो यूथ में हैंड मेड प्रोडक्ट का क्रेज बढऩे लगा है। प्रोडक्ट बनाकर इसे वैकेशन के तौर पर इस्तेमाल कर रहें है। लॉकडाउन में घर मे कई हैंडमेड चीजे बनाई जा रही है। इनमें डेकोरेटिव आइटम्स को लेकर सबसे ज्यादा काम हो रहा है। डॉ. निधि प्रजापति का कहना है कि घर में खाली समय में जिस भी चीज को सुंदर बना सकते है उसे सुंदर बनाने का प्रयास किया जा रहा है। ये आज से करीब 30 40 साल पुरानी ग्रामोफोन के रिकॉर्ड है जो बेकार पड़े थे पापा ने कभी फैकने नही दिए तो आज उनपर पेंटिंग करके घर को सजाने के लिए पेंटिंग बनाई है। इससे समय तो पास हो रहा है और क्रिएटिविटी भी आ रही है।

बोरखेड़ा निवासी पुर्वाशीं गौतम बी कॉम कर रही है लॉक डाउन के चलते घर अब इन दिनो हैंड मेड मार्केट बन गया। हैंड मेड कार्ड हो या आर्टिफिशियल ज्वैलरी या वेस्ट मेटेरियल से बने वैल हेगिंग कई क्रियेटिव आइटम बनाने में लगी है। उनके साथ परिवार भी इस कला का सीखने में लगा है।

Corona virus
Show More
Suraksha Rajora
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned