हाड़ौती में भारी बारिश, गांव बने टापू

मौसम केन्द्र के अनुसार पूर्वी भारत व हरियाणा में एक लो प्रेशर सिस्टम बना हुआ है। इसके चलते प्रदेश में चार से पांच दिन मानसून सक्रिय रहेगा। इससे कोटा, उदयपुर, जयपुर, अजमेर संभाग में तीन से चार दिन भारी बारिश हो सकती है। कोटा संभाग के एक-दो जिलों में एक-दो दिनों में 200 एमएम बारिश दर्ज होने की संभावना है।

By: Jaggo Singh Dhaker

Updated: 01 Aug 2021, 12:25 PM IST

कोटा. कोटा संभाग में पिछले 24 घंटे से लगातार बारिश का दौर जारी है। इससे कई क्षेत्र में जनजीवन प्रभावित हो गया है। नदी-नालों में उफान आने से कई रास्ते बंद हो गए हैं। गांवों में पानी भर गया है। कई गांव टापू बन गए हैं। बड़ी संख्या में मकानों को भी नुकसान पहुंचा है। मवेशी भी बड़े संकट का सामना कर रहे हैं। कई जगह फसलों को भी बड़ा नुकसान पहुंचा है। कोटा जिले में मारवाड़ा चौकी का रेलवे नाला उफन रहा है। वहीं दीगोद में सिविल न्यायालय के पास 3 फिट पानी भरने से आवागमन बंद हो गया है। सुल्तानपुर-भौंरा सडक़ मार्ग भी बंद हो गया है। बारां जिले के कवाई कस्बे सहित क्षेत्र में पिछले 3 दिनों से लेकर लगातार जारी बारिश के दौर जारी है। यहांखेत व आवासीय कॉलोनियां जलमग्न हो गई। वहीं सालपुरा क्षेत्र स्थित कालबेलिया बस्ती में एक का मकान गिर गया। सीमलिया क्षेत्र में रात भर पानी बरसा। सीमलिया से ढाबा रैली चारचौमा का रास्ता बंद हो गया है। अंडरपास में पानी भर जाने से आवागमन बन्द हो गया है। वहीं गांव ढाबा गांव भी टापू बन गया है। जयपुर मौसम विभाग ने बीते 24 घंटे में बारां जिले के शाहाबाद में 304 एमएम, कोटा जिले के खातौली में 151 व पीपल्दा में 105 एमएम बारिश दर्ज की है। बारां के देवरी की पलको नदी में उफान से बाढ़ के हालात बन गए हैं। नदी किनारे पुरानी पुलिस चौकी के पास सडक़ पर रखी एक कार करीब आठ 10 फ ीट दूर तक बह गई। बमोरीकलां में कच्चे मकान की दीवार गिरने से भैंस की मौत हो गई। केलवाड़ा क्षेत्र की वसुंधरा कॉलोनी, जगदीशपुरा रोड पर निचली बस्तियों में बारिश का पानी का भर गया। जलवाड़ा क्षेत्र में दस घंटे बारिश हुई है। इससे बरनी, पार्वती, खटफ ाड़, उतावली, सुखार नदी पर चादर चल रही है। गांगी के खाल में भी पानी की आवक हुई है। क्षेत्र के ख्यावदा, कुंडी, बालापुरा, छत्रगंज, रामबिलास, खलदा नदी पार के अरनिया, बहादुरगंज, पिपलोद सहित अन्य गांवों में जोरदार बारिश से खेत लबालब हो गए हैं। पार्वती नदी की पुलिया पर चादर चलने से अंतरराज्यीय बराना मार्ग का 5 दिन से यातायात बंद है। वहीं अटरू व किशनगंज उपखंड के करीब 2 दर्जन गांवों का संपर्क भी कटा हुआ है।

Jaggo Singh Dhaker
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned