कोटा में आई बाढ़ के बाद जिले के सभी विद्यालयों में अवकाश घोषित,जिला कलेक्टर ने दिए निर्देश

कोटा में आई बाढ़ के बाद जिले के सभी विद्यालयों में अवकाश घोषित,जिला कलेक्टर ने दिए  निर्देश
कोटा में आई बाढ़ के बाद जिले के सभी विद्यालयों में अवकाश घोषित,जिला कलेक्टर ने दिए निर्देश

Suraksha Rajora | Updated: 15 Sep 2019, 09:28:53 PM (IST) Kota, Kota, Rajasthan, India

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जिन सरकारी एवं निजी विद्यालयों मेें आश्रय स्थल बनाए

कोटा. मध्यप्रदेश में हो रही भारी बारिश से चम्बल नदी के सबसे बड़े बांध गांधी सागर में लगातार पानी की आवक हो रही है। रविवार को गांधी सागर से 6.62 लाख क्यूसेक पानी छोडऩे से कोटा बैराज के सभी 19 गेट खोलकर 6.70 लाख क्यूसेक पानी की निकासी की जा रही है। इस कारण चम्बल नदी के डाउन स्ट्रीम की एक दर्जन से अधिक बस्तियां जलमग्न हो गई है।

आंखों में कटी रात, बेघर हो गए लोग, किसी के सामान बहे तो किसी के मकान ढहे

जिला कलेक्टर मुक्तानन्द अग्रवाल के निर्देश पर जिले में अधिक वर्षा एवं बाढ की स्थिति को देखते हुए निजी एवं सरकारी विद्यालयों में 16 सितम्बर का अवकाश रहेगा।

कोटा में जल सैलाब, 34 साल बाद प्राचीन बीजासन माता मंदिर डूबा, 25 हजार मकान बाढ़ की चपेट में

मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी एचएल शिवहरे ने बताया कि यह आदेश सभी सरकारी एवं निजी व केन्द्रीय विद्यालयों पर लागू रहेगा। अध्यापक नियमित रूप से उपस्थित रहेगें।

बांधो से निकलता पानी, दिलो में ख़ौफ़ ,लहरों के शोर में सैलाब की आहट, 40 सालो का रिकॉर्ड तोड़ा कोटा बैराज से 6 लाख 5 हजार क्यूसेक पानी की निकासी

उन्होंने बताया कि शिक्षक उपस्थित रहकर प्रशासन को आवश्यकता पडऩे पर संशाधन भी उपलब्ध कराएंगे। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जिन सरकारी एवं निजी विद्यालयों मेें आश्रय स्थल बनाए गए हैं उनमें विद्यालय के शिक्षक उपस्थित रहकर राहत एवं बचाव कार्य में प्रशासन का सहयोग करेंगें।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned