बारिश के मौसम में हेयर फॉल से बचने के लिए घर पर तैयार करे हर्बल ऑयल...

Suraksha Rajora

Updated: 05 Jul 2019, 04:30:59 PM (IST)

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा. मानसून के मौसम में बालों और त्वचा की देखभाल करना उतना ही जरूरी है, जितना की अन्य मौसम में। इस मौसम में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, जिसकी वजह से बालों और त्वचा संबंधी समस्याएं पैदा होती हैं। बारिश के पानी में गीले हाने से त्वचा बेजान और चिपचिपी हो जाती है, जिससे त्वचा पर मुंहासे, लाल धब्बे, खुजली हो जाती है, वहीं स्कैल्प पर गीलेपन की वजह से बाल रूखे और बेजान दिखाई देने लगते हैं। लेकिन बालों और त्वचा की उचित देखभाल कर इन सभी समस्याओं से निजात पाने के साथ बिना किसी डर के मानसून का लुत्फ लिया जा सकता है।

जानिए आम बजट से जुड़ी दस बातें जो आप के लिए जानना जरुरी है

गर्मी हो या सर्दी लोग हर मौसम में अपनी त्वचा व बालों का बेहद ख्याल रखते हैं। लेकिन बरसात के मौसम में अपनी त्वचा और बालों की देखभाल करना भूल जाते हैं। मानसून एक ऐसा समय होता है, जब हमारी त्वचा और हमारे बाल विभिन्न समस्याओं जैसे नमी और पसीने का सामना करते हैं। तापमान और मौसम में बदलाव के कारण त्वचा और बाल लगातार प्रभावित होते हैं।

 

ब्यूटी एक्सपर्ट उर्मिला सोलंकी के अनुसार मानसून के समय शरीर का इम्यूनिटी लेवल कम हो जाता है, जिसकी वजह से इंफेक्शन होने की संभावना बढ़ जाती है। मानसून में मिट्टी और धूल की वजह से त्वचा के रोमछिद्र बंद हो जाते हैं, जिसकी वजह से कई समस्याएं उत्पन्न होती हैं, वहीं बालों में पानी पडऩे के कारण बाल कमजोर हो जाते हैं। ऐसे में इनकी देखभाल करना भी बहुत जरूरी हो जाता है।



एक्सपर्ट सोलंकी से जानिए मानसून में बालों और त्वचा की देखभाल कैसे करनी चाहिए जिससे आप बरसात के मौसम में भी अपनी त्वचा और बालों में निखार ला सकते हैं। मानसून के चिपचिपे मौसम में बालों की हालत बेहद खराब हो जाती है। ऐसे में अगर आपके बालों को उचित देखभाल और पोषण न मिले, तो बालों से जुड़ी कई समस्याएं पैदा होने लगती हैं। बारिश के पानी के संपर्क में आने के कारण मानसून में स्कैल्प से जुड़ी बीमारियां हो जाती हैं।

उमस भरे और चिपचिपे मौसम में गर्म और आद्र स्थिति बैक्टीरिया के विकास को प्रोत्साहित कर स्कैल्प पर खुजली और झुलसाने वाले पैच पैदा कर देती है, साथ ही इस मौसम में जुएं होना बहुत ही आम है। इतना ही नहीं बारिश में बालों का झडऩा सबसे गंभीर समस्या है। इसके साथ कई लोग डैंड्रफ की समस्या से भी जूझते हैं।
बारिश में भीगना हम सभी को पसंद है, लेकिन कभी कभी बारिश का पानी अशुद्ध और अम्लीय होता है।

जिससे बाल खराब हो जाते हैं। इस मौसम में गीले बालों के झड़ने और बालों से जुड़ी अन्य समस्याओं का खतरा ज्यादा होता है, इसलिए बारिश में बाल गीले हो भी जाएं, तो इन्हें तुरंत सुखा लें। कोशिश करें कि बालों को सुखाने के लिए ब्लो ड्रायर का उपयोग न करें, क्योंकि इससे आपके बाल और कमजोर हो सकते हैं। इसलिए बालों को पूरी तरह से सुखाने के लिए सूखी टॉवेल का इस्तेमाल करें। चूंकि बारिश का पानी बालों के लिए अच्छा नहीं होता, इसलिए बालों को बरसात से बचाने के लिए सिर पर प्लास्टिक कैप या छाता का इस्तेमाल करें।


मानसून के मौसम में बालों में गंदगी होने के साथ फंगल इंफेक्शन हो जाता है। इससे बचने के लिए अपने बालों को हफ्ते में दो से तीन बार धोएं। खासतौर पर स्कैल्प को साफ करने के लिए डीप कंडीशनिंग शैंपू का उपयोग करें। कई बार डैंड्रफ की वजह से भी हेयरफॉल होता है, इसलिए एंटी डैंड्रफ शैंपू का उपयोग करें। लेकिन इसे हफ्ते में एक बार ही बालों पर लगाएं, क्योंकि ये बहुत हार्ड होते हैं।


बालों को स्वस्थ रखने के लिए हर मौसम में ऑयल मसाज एक अच्छा विकल्प है। मानसून में बारिश के कारण बालों में गंदगी जल्दी जमा हो जाती है। इसे साफ करने के लिए हफ्ते में दो बार बालों की हॉट ऑयल मसाज करें। अपनी ड्राई स्कैल्प को मॉइश्चराइज और मजबूत करने के लिए तेल की मालिश बहुत जरूरी है।


मानसून में स्कैल्प पर खूब सारी धूल और तेल जमा हो जाता है, इसलिए नियमित रूप से बालों को शैंपू करना चाहिए। साथ ही बालों को स्वस्थ और मुलायम रखने के लिए कंडीशनिंग भी उतनी ही जरूरी है।

बरसात के मौसम में हवा में नमी का स्तर बालों को शुष्क बना देता है, जिससे स्प्लिट एंड्स होने के साथ हेयर डैमेज और हेयर फॉल की समस्या शुरू हो जाती है। इसलिए बालों को नियमित रूप से कंडीशन करें। ध्यान रखें कि स्कैल्प पर कंडीश्नर नहीं लगाना है, बल्कि इसका उपयोग बालों के छोर पर किया जाता है। इसके लिए चौड़े दांत वाली कंघी का इस्तेमाल कर सकते हैं।


ऑयली हेयर वाले बालों को हफ्ते में दो बार धोने के बाद भी चिपचिपापन आ जाता है। इसलिए ऐसे बाल वाले लोगों को बारिश के मौसम में हमारे द्वारा नीचे बताए गए काम जरूर करने चाहिए।

ऑयली हेयर वाले लोगों को रोजाना बाल धोने चाहिए। साथ ही माइल्ड कंडीश्नर का उपयोग करें। अगर आपके बाल मानसून में और भी ज्यादा ऑयली हो जाते हैं, तो दो चम्मच विनेगर या नींबू के रस से मसाज करें।


मानसून में बालों को अच्छी तरह साफ करना बेहद जरूरी होता है। इन्हें अच्छी तरह साफ करने के लिए पानी में पेपरमिंट चाय का भी प्रयोग कर सकते हैं। बाल धुलने के बाद इस पानी से बालों को एक बार धो लें।


जो बाल धोने के 3 से 4 दिन बाद ही चिपचिपे हो जाते हैं, उन्हें सामान्य बाल कहते हैं। बारिश के मौसम में ऐसे बालों की देखभाल नीचे दिए गए तरीकों से कर सकते हैं।
बालों को धोने के लिए हल्के शैंपू का इस्तेमाल करें।


एलोवेरा जेल में बालों को पोषण देने वाले सभी गुण होते हैं और यह तुरंत स्कैल्प से जुड़ी समस्याओं को खत्म कर देता है। बालों के विकास के लिए यह एक नेचुरल प्रमोटर माना जाता है। मानसून में बालों की ग्रोथ बढ़ाने के लिए एलोवेरा जेल को आधा चम्मच एप्पल साइडर विनेगर में मिलाएं और इसे हेयर मास्क की तरह बालों में लगा लें। जब यह सूख जाए, तो 30 मिनट के बाद इसे धो लें। लगातार कुछ दिनों तक ऐसा करने से बालों का विकास तेजी से होने लगेगा।


केले का हेयर मास्क या पैक मानसून के दौरान बालों को होने वाले नुकसान से बचाने का शानदार घरेलू तरीका है। केले में मौजूद पोटेशियम आपके बालों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। बालों में इसे लगाने के लिए दो छोटे केलों को ब्लेंड करें। अब इसमें एक चम्मच जैतून का तेल और तीन बड़े चम्मच मेयोनीज मिलाकर मास्क तैयार करें। अब इस मास्क को स्कैल्प और बालों पर अच्छे से लगाएं। 30 मिनट तक इसे लगा रहने दें और फिर बालों को पानी से धो लें। चार से छह बार इस प्रक्रिया को अपनाने के बाद हेयर डैमेज की समस्या जड़ से खत्म हो जाएगी।


आलू विटामिन ए, बी और सी का मुख्य स्त्रोत है। जब बालों में इन विटामिन की कमी हो जाती है, तो यह शुष्क और भंगुर हो जाते हैं। इन विटामिन का उपयोग आमतौर पर बालों के विकास के लिए और बालों के झड़ने को रोकने के लिए किया जाता है। इसे इस्तेमाल करने के लिए दो आलू का रस निकालकर स्कैल्प पर लगाएं। इसे 15 मिनट के लिए लगा छोड़ दें। 15 मिनट बाद इसे धोएं, लेकिन इसके लिए माइल्ड शैंपू का उपयोग करें। बेहतर परिणाम के लिए मानसून में इसका नियमित रूप से लगाएं।


आलू विटामिन ए, बी और सी का मुख्य स्त्रोत है। जब बालों में इन विटामिन की कमी हो जाती है, तो यह शुष्क और भंगुर हो जाते हैं। इन विटामिन का उपयोग आमतौर पर बालों के विकास के लिए और बालों के झड़ने को रोकने के लिए किया जाता है। इसे इस्तेमाल करने के लिए दो आलू का रस निकालकर स्कैल्प पर लगाएं। इसे 15 मिनट के लिए लगा छोड़ दें। 15 मिनट बाद इसे धोएं, लेकिन इसके लिए माइल्ड शैंपू का उपयोग करें। बेहतर परिणाम के लिए मानसून में इसका नियमित रूप से लगाएं।

 

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned