'वो दवा' बेचने के लिए झोलाछाप डॉक्टर खरीदते हैं लाखों की तादात में कैप्सूल के खाली खोल

drug Smuggling, Fake drug , Gelatin Capsules: कोटा के दो हजार झोलाछाप डॉक्टर कैप्सूल के खाली खोल के सबसे बड़े खरीदार साबित हो रहे हैं।

Zuber Khan

November, 0711:37 AM

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा ञ्च पत्रिका . कैप्सूल के खाली खोल के ( Illegal Gelatin Capsules ) स्टॉकिस्टों के तार अवैध दवा कारोबार और झोलाछाप डॉक्टरों ( Scuff doctors ) से जुडऩे लगे हैं। जिले में करीब दो हजार झोलाछाप डॉक्टर ( Jholachap doctor ) इन खोलों के सबसे बड़े खरीदार के तौर पर सामने आ रहे हैं। जानकारों का कहना है कि काफी मात्रा में कोटा में ऐसे कैप्सूल खोल बेचे गए हैं। अब औषधि नियंत्रक विभाग इन खरीददारों का पता लगा रहा है। अवैध दवाएं पीसकर ये झोलाछाप डॉक्टर इन कैप्सूलों में भरते और बीमार लोगों को दवा के नाम पर थमाकर उनकी जान से खुलेआम खिलवाड़ कर रहे हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि छोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई करना तो दूर स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग उनकी सूची तक तैयार नहीं कर पा रहा है।

Read More: खुलासा: बसों की डिक्कियों में अहमदाबाद और इंदौर से कोटा आई थी कैप्सूल के खोल की खेप!

औषधि नियंत्रण विभाग की छापेमारी में बोरखेड़ा, शिवाजी मार्केट और कुन्हाड़ी से दबोची गई चार हजार किलो से ज्यादा कैप्सूल के खाली खोल की खेप अवैध दवा कारोबार और झोलाछाप डॉक्टरों के गठजोड़ से जुड़ती जा रही है। शुरुआती जांच में पकड़े गए खाली खोलों के कोटा और आसपास के जिलों में ही खपाने के संकेत मिले हैं। इसमें झोलाछाप डॉक्टर इन खाली खोलों के सबसे बड़े खरीदार साबित हो रहे हैं। शंका है कि ये लोग इन खाली कैप्सूल में अवैध व अमानक दवाएं व शक्ति वर्धक दवा ( Power boosting medicine ) भर कर बेचते थे।

Read More: भारत के इन राज्यों से रोजाना कोटा आते हैं अवैध कैप्सूल के खोल से भरे 4 ट्रक, मेनका गांधी ने किया था विरोध

हमें नहीं मालूम है कितने हैं : तंवर
सीएमएचओ डॉ. बीएस तंवर से जब इन झोलाछाप डाक्टरों के बारे में बात की गई तो उन्होंने खुद माना कि एक डिस्पेंसरी एरिया में करीब चार से पांच झोलाछाप डाक्टर हैं, लेकिन जब कार्रवाई के बाबत पूछा गया तो उन्होंने ऐसा कोई भी रिकॉर्ड तैयार नहीं होने की बात कह जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया। डॉ. तंवर ने कहा कि एक तो झोलाछाप डॉक्टरों के इलाके चिन्हित नहीं है और दूसरा सूचना मिलने पर जब भी कार्रवाई के लिए जाते हैं, यह स्थानीय लोगों की मदद से फरार हो जाते हैं।

Read More: कोटा के रामपुरा अस्पताल में भिड़े संविदाकर्मी और ठेकेदार, जमकर चले लात-घूंसे, देखिए लाइव VIDEO

खुद करेंगे कार्रवाई
वहीं दूसरी ओर झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई के लिए नोडल अधिकारी की जिम्मेदारी देख रहे आरसीएमएचओ डॉ. महेंद्र त्रिपाठी ने भी अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाडऩे में कोई कमी नहीं छोड़ी। उनसे जब झोलाछाप डॉक्टरों के बाबत बात की गई तो उन्होंने कहा कि 'मंैने झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए सीएमएचओ ऑफिस से इनकी सूची मांगी थी, लेकिन कई बार कहने के बावजूद मुझे अभी तक यह सूची उपलब्ध नहीं कराई गई है। हालांकि कैप्सूल के खाली खोलों की बरामदगी और उसके तार अवैध दवा निर्माण के साथ ही झोलाछाप डॉक्टरों से जुड़े होने की जानकारी मिलने के बाद अब मैं अपने ही स्तर पर इनकी जानकारी जुटाकर जल्द से जल्द व्यापक पैमाने पर कार्रवाई करवाऊंगा

बिना लाइसेंस के कैप्सूल के खोल के स्थानीय स्तर पर शक्ति वर्धक आदि तरह की दवाएं बेचने वाले नीम हकीम और झोलाछाप डॉक्टर ही इसके खरीदार हैं। जो इन खोलों में अमानक दवाएं भरकर बेचते हैं। कोटा के कारोबारियों ने किन किन लोगों को खोल बेचे हैं इसकी विस्तृत जानकारी जुटा रहे हैं।
रोहिताश्व नागर, ड्रग इंस्पेक्टर, औषधि नियंत्रण विभाग कोटा

Show More
​Zuber Khan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned