हाड़ोती की धरा को छलनी कर रहा खनन माफिया, कोटा-बारां की नदियों के पाट बदल रहे आकार

बारां के किशनगंज क्षेत्र में रेलावन के नजदीक हो रहा अवैध खनन

By: mukesh gour

Published: 12 May 2020, 11:06 PM IST

कोटा. हाड़ोती की धरा को खनन माफिया किस तरह से कंगाल करने पर आमादा है, इसका उदाहरण यहां बहने वाली नदियों व अन्य स्थानों पर आसानी से देखा जा सकता है। इलाके की प्रमुख नदी चंबल, पार्वती व अन्य नदियों से अवैध रूप से रेत निकालने का काम बदस्तूर जारी है। अंधाधुंध खनन के चलते नदियों के किनारे अपना आकार बदल रहे हैं। बारां जिले के किशनगंज क्षेत्र में रेलावन कस्बे के नजदीक स्वरूपपुरा के जंगलों में लोग अवैध रूप से बजरी खनन में लगे हैं। यहां वन क्षेत्र में लोगों द्वारा जेसीबी से बजरी खनन कर दर्जनों ट्रैक्टर ट्रॉलियों से परिवहन किया जा रहा है।

read also : यूपी, बिहार के लिए दौड़ी सबसे ज्यादा रेलगाड़ी
लॉकडाउन के चलते इन दिनों पूरा प्रशासनिक अमला व्यवस्थाओं में लगा है वहीं कुछ लोग वन क्षेत्र में बजरी का खुलेआम खनन कर रहे है। जिससे वन क्षेत्र मेंं जगह-जगह गहरे गड्ढे हो गए और वन संपदा को भी नुकसान पहुंच रहा है। माफियाओं द्वारा वन भूमि से खनन की हुई बजरी का ट्रैक्टर ट्रॉलियों से खनन किया जा रहा है। हालांंकि कई वन प्रेमी ग्रामीण वन क्षेत्र में हो रहे खनन का विरोध भी कर रहे हैं। इस बारे में किशनगंज रेंजर भूपेन्द्र सिंह हाड़ा ने बताया कि खनन की सूचना मिलने पर स्टाफ को मौके पर भेजा है। यदि खनन किया जा रहा है तो वन अधिनियम के तहत कठोर कार्यवाही की जाएगी।

Show More
mukesh gour
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned