मैसेज के इंतजार में रह गए 19 हजार किसान

shailendra tiwari

Publish: Jun, 14 2018 06:44:07 PM (IST)

Kota, Rajasthan, India
मैसेज के इंतजार में रह गए 19 हजार किसान

सरसों, चना की समर्थन मूल्य पर खरीद बंद

कोटा. समर्थन मूल्य पर सरसों-चना बेचने के लिए राजफेड के पोर्टल पर पंजीयन कराकर हाड़ौती के पौने 19 हजार किसान मैसेज का इंतजार करते ही रह गए। उनके मोबाइल पर चना, सरसों तुलवाने का खरीद केंद्र बंद तक भी मैसेज नहीं आया। एेसे में किसान अब ईमित्र, नजदीक खरीद केंद्रों पर सरसों, चने की तुलाई के बारे में जानकारी जुटाने में लगे हैं । जहां संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर राजफेड के क्षेत्रीय अधिकारी से फोन पर सम्पर्क साध रहे हैं।
अप्रेल से चना की 4400 व सरसों की 4000 रुपए प्रति क्विंटल के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद शुरू हुई थी। राजफेड के ऑनलाइन पोर्टल पर चना बेचने के लिए 59 हजार 610 व सरसों बेचने के लिए 9654 किसानों ने पंजीयन कराया। इसमें से विभाग ने चना तुलाई के लिए 41092, सरसों तुलाई के लिए 9314 किसानों को मैसेज भेजे गए। 18 हजार 858 किसानों को चना, सरसों तुलवाने के मैसेज ही नहीं मिले। जबकि चना, सरसों की खरीद १२ जून को बंद हो गई।

Yoga Special : स्लिपडिस्क, सायटिका और कमरदर्द से बचने के लिए अपनाएं यह योगासन

खरीद तिथि बढ़ाई जाए
कोटा. सांसद ओम बिरला ने बुधवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह से मुलाकात कर समर्थन मूल्य के तहत चना खरीद की तिथि बढाने का आग्रह किया। बिरला ने कहा कि समर्थन मूल्य के माध्यम से किसानों का चना खरीदा जा रहा था, अंतिम तिथि 12 जून होने से खरीद प्रक्रिया बंद हो गई। बड़ी संख्या में किसान फ सल विक्रय से वंचित रह गए। अत: खरीद की तिथि 12 जुलाई तक बढ़ाई जानी चाहिए।

Read More:कर दिया उड़द का गलत भुगतान

आधे किसान ही बेचने पहुंचे उपज
हाड़ौती में संचालित सरकारी खरीद केंद्रों पर पंजीकृत में आधे किसान ही चना सरसों उपज बेचने पहुंचे हैं। चना के लिए 59 हजार 610 किसानों ने पंजीयन कराया। इनमें से 41 हजार 092 को मैसेज मिला। 33 हजार 923 किसानों ने 85 हजार 996 क्विंटल चना तुलवाया। इसी प्रकार सरसों के लिए 9654 किसानों ने पंजीयन कराया। 9314 किसानों को मैसेज मिले। इनमें से 6441 किसानों ने 16 हजार 4324 क्विंटल सरसों तुलवाई।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned