प्रदेश में सबसे ज्यादा बंद उद्योग कोटा में, पत्थर उद्योग से भी मोहभंग

उद्योगों को लगा ग्रहण, कोटा से औद्योगिक निवेश से मोहभंग,बंद हो गई पत्थर इकाइयां

By: Suraksha Rajora

Updated: 07 Mar 2020, 02:52 PM IST

कोटा. दो दशक पहले कोटा राजस्थान की औद्योगिक नगरी में शुमार था, लेकिन निवेशकों का कोटा से औद्योगिक निवेश से मोहभंग हो गया है। इस कारण नया निवेश नहीं हो रहा है, जो निवेशक उद्योग लगाना चाहते हैं, उन्हें जमीन नहीं मिल पाती है। इस कारण यहां से पलायन कर रहे हैं। सरकार के आंकड़े भी बता रहे हैं कि प्रदेश में सबसे अधिक बंद उद्योग कोटा में है। बंद उद्योगों को चालू करने की दिशा में भी कोई प्रयास नहीं किए गए हैं, बल्कि उद्योगों की जमीन का उपयोग अन्य प्रयोजनार्थ किया जाने लगा है।

राज्य सरकार की ओर प्रदेश में वृहद, मध्यम और लघु उद्योगों पर रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट में प्रदेश में औद्योगिक स्थित का परिदृश्य दिया गया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक कोटा में बंद उद्योग सबसे ज्यादा है। प्रदेश में मध्य श्रेणी के कुल 254 उद्योग वर्तमान में संचालित है। इस श्रेणी में प्रदेश में 20 उद्योग बंद है, जिसमें अकेले कोटा में ही सात वृहद उद्योग बंद है। चालू उद्योगों की श्रेणी में भी कोटा नीचले पायदान पर ही है।

बंद हो गई पत्थर इकाइयां

कोटा के उद्यमियों का पत्थर उद्योग से मोहभंग हो गया है। इन्द्रप्रस्थ औद्योगिक क्षेत्र में एक दशक पहले कोटा स्टोन की करीब सात सौ स्पलिटिंग इकाइयां संचालित थी, लेकिन अब घटकर सौ के आंकड़े में सिमट गई है। हाड़ौती कोटा स्टोन इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन के चेयरमैन विकास जोशी का कहना है कि ओवरलोडिंग के कारण खानों से कोटा पत्थर लाकर माल तैयार करना बहुम महंगा पड़ रहा है। साथ ही हॉस्टल व्यवसाय बढऩे के कारण उद्यमियों का रूख बदल गया है। इस औद्योगिक क्षेत्र में कोचिंग, होटल और हॉस्टल बन गए हैं।

खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों की संभावना

सरकार की रिपोर्ट में भी माना है कि हाड़ौती में खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों की काफी संभावनाएं है। क्योंकि यहां की जमीन काफी उपजाऊ है। साथ ही हाड़ौती के किसानों को चम्बल नदी का वरदान मिला हुआ है। छह माह तक चम्बल नहरों से करीब पौने तीन लाख हैक्टेयर जमीन सिंचित होती है। इससे सालाना दो से ढाई हजार करोड़ का कृषि उत्पादन होता है।

निवेशकों को प्रोत्साहित करने के लिए तथा नए उद्योग लगाने के लिए रीको की ओर से कुबेर एक्सटेंशन औद्योगिक क्षेत्र विकसित किया है। आवंटन की प्रक्रिया जल्द शुरू करेंगे। एस.के. गर्ग, वरिष्ठ क्षेत्रीय प्रबंधक रीको

मध्यम श्रेणी के उद्योगों की स्थिति

जिला चालू उद्योग बंद

कोटा 22 7

अजमेर 7 0

अलवर 3 0

बारां 2 0

बाडमेर 4 0

भरतपुर 1 0

भीलवाड़ा 47 2

बीकानेर 4 0

चितौडगढ़ 5 0

धौलपुर 9 1

हनुमानगढ़ 1 0

जयपुर ग्रामीण 18 1

जयपुर शहर 14 0

जैसलमेर 2 0

जालौर 2 0

झालावाड़ 2 0

जोधपुर 7 1

करौली 2 0

नागौर 2 0

पाली 8 0

राजसमंद 3 0

सीकर 4 0

सिरोही 3 0

श्रीगंगानगर 1 0

टोंक 2 1

उदयपुर 14 4

(स्रोत : उद्योग आयुक्त कार्यालय )

Show More
Suraksha Rajora
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned