चीन से एमबीबीएस करने वालों को भारत में मिली बड़ी राहत, हजारों चिकित्सक होंगे लाभान्वित

मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया नई दिल्ली ने की चीन के मेडिकल संस्थानों से की गई इंटर्नशिप भी मान्य, हजारों चिकित्सक होंगे लाभान्वित

By: Deepak Sharma

Updated: 05 Aug 2020, 05:47 PM IST

कोटा. मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया नई दिल्ली (MCI) ने चीन के मेडिकल संस्थानों से एमबीबीएस डिग्री हासिल करने वाले विद्यार्थियों को अब इंडियन मेडिकल काउंसिल एक्ट के तहत परमानेंट रजिस्ट्रेशन के लिए भारतीय मेडिकल संस्थानों से 12 माह की मेडिकल इंटर्नशिप करने की अनिवार्यता समाप्त कर दी गई है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय Health Ministry ने हाल जारी निर्णय के अनुसार चीन से एमबीबीएस MBBS करने वाले भारतीय मूल के विद्यार्थी चीन के ही मेडिकल संस्थान से इंटर्नशिप कर भारत में परमानेंट रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन कर सकते हैं। इससे पूर्व परमानेंट रजिस्ट्रेशन के लिए भारतीय मेडिकल संस्थान से 12 माह की इंटर्नशिप करना अनिवार्य था।

मेडिकल पीजी सीटों पर प्रवेश अब 31 अगस्त तक
कोटा. मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया नई दिल्ली ने देशव्यापी मेडिकल पीजी सीटों पर प्रवेश की अंतिम तिथि 31 जुलाई से बढ़ाकर 31 अगस्त कर दी है। इस संबंध में एक नोटिफि केशन मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की ऑफि शियल वेबसाइट पर उपलब्ध है।

एक्सपर्ट देव शर्मा ने बताया कि राजस्थान सरकार व बिहार के मेडिकल कॉलेजों ने देश के सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष मेडिकल पीजी सीटों पर प्रवेश की अंतिम तिथि 31 अगस्त तक बढ़ाने की याचिका दायर की थी। सर्वोच्च न्यायालय ने गत 30 जुलाई को उपरोक्त याचिका के पक्ष में निर्णय देते हुए देशव्यापी मेडिकल पीजी सीटों पर प्रवेश की अंतिम तिथि 31 अगस्त कर दी है। उपरोक्त निर्णय अकादमिक सत्र 2020-21 में मेडिकल पीजी सीटों पर प्रवेश के लिए लिया गया है।

Show More
Deepak Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned